इंडिया न्यूज चैनल के दीपक चौरसिया की तीव्र हुई गिरफ्तारी की मांग, गैर जमानती वारंट जारी

इंडिया न्यूज चैनल के दीपक चौरसिया की तीव्र हुई गिरफ्तारी की मांग, गैर जमानती वारंट जारी
जून,13, 2017
पटना
न्यायालय द्वारा #दीपक चौरसिया ( एडिटर-इन-चीफ, इंडिया न्यूज टीवी चैनल)
को बार-बार सम्मन भेजने के बाद भी कानून की अहवेलना करते हुए नही आने पर
(#Non-Bailable Summons – गैर जमानती सम्मन ) (WARRANT OF ARREST
-गिरफ्तारी का वारन्ट) जारी किया है ।
Azaad Bharat – Deepak Chaurasia
धार्मिक भावनाओं को आहत किये जाने के कारण
दीपक चौरसिया व अन्य लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी लेकिन अभी तक कोर्ट में कोई भी पेश नही हुआ है ।
सोमवार
को सेक्टर-6 सिटी #S.P नोएडा कार्यालय पर सामाजिक संगठनों एवं हिन्दू
संगठनों के कार्यकर्ता (विश्व हिन्दू एकता मंच के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष
सुनील कुमार, राष्ट्रीय परशुराम सेना युवावाहिनी- अध्यक्ष अनूप दुबे,
उपाध्यक्ष राहुल राज तिबारी, नारी रक्षा मंच की राष्ट्रीय अध्यक्ष रुपाली
दुबे,हिन्दू मुस्लिम एकता मंच के प्रदेश अध्यक्ष बम बम ठाकुर, भारत जाग्रति
मोर्चा के कार्यकर्ता राहुल जी, धर्म रक्षा दल प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अखिल
यादव) आदि संगठन सैकड़ों लोगों के साथ सिटी S.P  से मुलाकात करने पहुंचे ।
जन
जागरण मंच गौतमबुध नगर के  प्रदेश अध्यक्ष #श्री मनोज त्यागी बाबा ने वहां
पर पहुँची मीडिया को बताया कि #भारतीय संस्कृति एवं संतों की अस्मिता पर
#कुठाराघात करने वाले इंडिया न्यूज टीवी चैनल के वरिष्ठ पदाधिकारियों एवं
उसके मालिक के विरुद्ध करीब 3 महीने से गैर जमानती वारंट पटना न्यायालय
द्वारा जारी किया गया है ।
पटना
न्यायालय द्वारा  #N.B.W. वारंट लखनऊ #D.G.P यू पी को आदेशित किया गया ।
जिसके बाद लखनऊ D.G.P द्वारा मेरठ I.G को भेजा गया । जिसके बाद मेरठ I.G ने
S.S.P नोएडा को आदेशित की गयी । जिसके बाद नोएडा S.S.P के आदेशित करने पर
बार बार नगर S.P  के समक्ष आरोपी की गिरफ्तारी के विभिन्न संगठनों के साथ
मांग की गयी ।
लेकिन
#S.P द्वारा गिरफ्तारी नहीं की जाने से पुनः सभी पदाधिकारी.S.SP, #I.G
मेरठ, #D.G.P लखनऊ, #मुख्यमंत्री यूपी के समक्ष कार्यवाही की मांग की ।
जिससे
दबाव वश थानाधिकारी एवं #I.O अधिकारी ने #झूठी रिपोर्ट बनाकर सभी लोगों को
बताया कि #दीपक चौरसिया पटना न्यायालय में पेश हो चुका है । जब कि सच्चाई
यह है कि दीपक चौरसिया कोर्ट में पेश नहीं हुआ है ।
पुलिस
प्रशासन द्वारा कार्यवाही नहीं किये जाने के कारण जनता अपना आक्रोश प्रकट
करने एवं वारंट पर तत्काल कार्यवाही कर दोषियों को गिरफ्तार करने की मांग
को लेकर S.P कार्यालय पहुँची । जिसमें साथ में पहुँचे अन्य संगठनों ने
इंडिया न्यूज के पदाधिकारियों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की । साथ ही
जनता द्वारा पुलिस प्रशासन की निष्क्रियता पर सवाल उठाए गये ।
सामाजिक
संगठनों ने #पुलिस प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि इसके पहले भी
न्यायालय द्वारा गैर जमानती वारंट जारी किया गया था लेकिन दोषी व्यक्ति
टीवी चैनलों पर लगातार #हिन्दू जनता की #धार्मिक भावनाओं को #ठेस पहुंचाता
रहा और पुलिस प्रशासन मूकदर्शक बना रहा और आज भी दोषी व्यक्ति खुले आम घूम
रहा है और पुलिस निष्क्रियतापूर्वक बैठी हुई है ।
सोमवार (12 जून 2017) को सिटी #A.S.P से मिलने के  बाद A.S.P ने आरोपी को तुरंत गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश करने का आश्वासन दिया ।
क्या है मामला?
#इंडिया न्यूज टीवी चैनल के #दीपक चौरसिया ने हिन्दू संत आसारामजी बापू को #बदनाम करने के लिए सबसे पहले #अभियान शुरु किया था ।
झूठे
एवं मनगढ़ंत न्यूज़ एवं “गैंग ऑफ आसाराम“ इत्यादि कार्यक्रमों को इस
#कुप्रचार अभियान का आधार बनाया गया था, जबकि पुलिस द्वारा अभी तक इस
प्रकार का एक भी आरोप हिन्दू संत आशारामजी बापू पर नहीं लगाया गया है ।
#दीपक
चौरसिया एवं अन्य #न्यूज चैनलों ने पैसे की लालच, स्वार्थपूर्ण एवं #कुटिल
अपराधिक उद्देश्य द्वारा संत आशारामजी बापू की छवि को समाज में धूमिल करने
तथा करोड़ों शिष्यों की धार्मिक भावनाओं को #आहत एवं उन्हें #अपमानित करने
का प्रयास किया ।
बिकाऊ एवं एक तरफा न्यूज दिखाना दीपक चौरसिया एवं उसकी कंपनी के लिए आम बात है ।
इसी
कारण पटना में रहने वाले #श्री दिलीप कुमार ने, जिनकी धार्मिक भावना को
ठेस पहुंची थी, उन्होंने पटना शहर के कोर्ट में #दीपक चौरसिया एवं अन्य
आरोपी जिनमें इंडिया #न्यूज चैनल के मालिक एवं निर्देशक भी सम्मलित है,
उनके खिलाफ 15 मई 2014 को #शिकायत दर्ज कराई थी ।
पटना
शहर न्यायालय ने सारी शिकायत को सुनकर एवं इसकी गंभीरता को देखते हुए 18
जून 2015 और बाद में 20 जुलाई 2015 को सभी आरोपीगण जिनमें दीपक चौरसिया और
इंडिया न्यूज चैनल के मालिक एवं निर्देशक भी सम्मिलित है, उनके खिलाफ
#भारतीय दंड संहिता के #अंतर्गत धारा 298 एवं 508 के तहत दो बार सम्मन जारी
किये थे लेकिन कानून की अहवेलना करते हुए अभी तक
वे उपस्थित नही हुए इसलिए 14 जून 2016 को Non-bailable सम्मन जारी किया गया ।
जिसके बाद भी पुलिस द्वारा दोषियों पर कोई कार्रवाई नहीं की गयी ।
अभी
तक लगातार #इंडिया न्यूज  के पदाधिकारियों द्वारा कानून से खिलवाड़ किया जा
रहा है । लगातार #न्यायालय की अवमानना करने के कारण कोर्ट ने दोबारा
#इंडिया न्यूज चैनल के मालिक एवं दीपक चौरसिया एडीटर इन चीफ आदि को दिनांक
4.3.2017 को #गिरफ्तारी वारंट जारी किया है ।
इतना समय हो गया लेकिन अभी तक न ही दीपक चौरसिया हाजिर हुआ और न ही पुलिस ने उसको गिफ्तार किया ।
जब कानून सबके लिए समान है तो क्यों अभी तक दीपक चौरसिया को गिरफ्तार नही किया गया..???
क्या #हिन्दू संतों और  #मीडिया के लिए अलग-अलग #कानून का प्रावधान है…???
जो पुलिस प्रशासन बिना सबूत #शंकराचार्य जयेन्द्र सरस्वती को #दीपावली की रात 12:00 बजे गिरफ्तार कर सकता है ।
जो पुलिस प्रशासन #साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को बिना वारंट ही गिरफ्तार करके अमानवीय यातनाएं दे सकता है ।
जो पुलिस प्रशासन 81 वर्षीय वृद्ध संत #आसारामजी बापू जी को बीमारी की हालत में भी रात 12:00 बजे गिरफ्तार कर सकता है ।
वो दीपक चौरसिया पर कई बार वारंट जारी होने पर भी उसे #गिरफ्तार क्यों नही कर रहा…???
चौरसिया पर पटना के अलावा और 10 जगह से #FIR हुई है लेकिन कोई कार्यवाही नही हो रही है ।
क्यों…???
चलो
मीडिया वालों की तो आपस में सांठ-गांठ होती है इसलिए वे एक दूसरे के लिए
कोई खबर नहीं दिखाते पर क्या पुलिस की भी कोई सांठ-गांठ है या पुलिस मीडिया
से डरकर कर्तव्य विहीन हो गई है ।
आखिर क्या कारण है #दीपक चौरसिया को #गिरफ्तार न करने के पीछे…???
आपको
बता दे कि #दीपक चौरसिया के लिए कई बार #ट्वीटर पर भी लाखों लोगों ने
#गिरफ्तारी की माँग की है और दिल्ली #जंतर मंतर पर भी अनेक बड़े-बड़े #हिन्दू
संगठन और हजारों लोग #गिरफ्तारी की माँग की थी।
अब
देखना ये है कि #बिना सबूत #हिन्दू संतों को आधी रात को #गिरफ्तार करने
वाला ये #पुलिस प्रशासन कितना #सक्रिय है दीपक चौरसिया के लिए..!!
Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

दुनिया की सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला देश,रामायण और हिन्दू देवी-देवताओं का है दीवाना

🚩 *दुनिया की सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला देश,रामायण और हिन्दू देवी-देवताओं का है दीवाना*
जून, 12, 2017
🚩फिल्म
एक्ट्रेस #रवीना टंडन ने ट्विटर पर #रामायण को लेकर कुछ दिनों पहले एक
ट्वीट करके लिखा था कि #मुगल और #ब्रिटिश ने हमारे इतिहास के साथ छेड़छाड़
की और हमें ये मानने पर बाध्य कर दिया कि रामायण मिथ्या थी। इसके साथ
उन्होंने रामायण के वास्ताविक होने की खबर की  लिंक भी शेयर की ।
Azaad bharat- indonesia fond of ramayana
🚩लेकिन कुछ असामाजिक तत्वों ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया और #रवीना टंडन की रामायण पर हुई ट्वीट पर सवाल उठाने लगे ।
🚩लेकिन
#रवीना ने आगे बढ़कर एक ट्वीट में लिखा कि क्योंकिं मैं #हिंदू हूँ और
#रामायण और गीता पर विश्वास रखती हूँ । मुझे भारतीय होने पर गर्व है
क्योंकि मैं रामायण पर विश्वास करती हूँ तो क्या इससे आपको अपमान करने का
अधिकार मिल जाता है।
🚩भारत
में #रामायण पर बात करने पर #सेकुलर लोग बबाल करने लग जाते हैं लेकिन
दुनिया मे सबसे बड़ा देश भगवान श्री राम और रामायण का दीवाना है । जो
#सेक्युलर लोगों पर एक तमाचा है ।
🚩दुनिया की सबसे ज्यादा #मुस्लिम आबादी वाला देश #इंडोनेशिया रामकथा यानी #रामायण का बेहद दीवाना है।
🚩#इंडोनेशिया
देश में #अयोध्या भी है और यहां के #मुस्लिम भी भगवान राम को अपने जीवन का
नायक और #रामायण को अपने दिल के सबसे करीब किताब मानते हैं।
🚩आपको
बता दें कि साल 1973 में इंडोनेशिया की सरकार ने #अंतरराष्ट्रीय रामायण
सम्मलेन का आयोजन किया था। ये अपने आप में काफी अनूठा आयोजन था क्योंकि
घोषित तौर पर कोई मुस्लिम राष्ट्र पहली बार किसी और धर्म के धर्मग्रन्थ के
सम्मान में इस तरह का कोई आयोजन करा रहा था।
🚩#इंडोनेशिया
में आज भी #रामायण का इतना गहरा प्रभाव है कि देश के कई इलाकों में रामायण
के अवशेष और पत्थरों तक की नक्‍काशी पर रामकथा के चित्र आसानी से मिल जाते
हैं।
🚩विश्व
के मानचित्र पर दक्षिण पूर्व एशिया में स्थित इंडोनेशिया नामक इस देश की
आबादी तकरीबन 23 करोड़ है। यह दुनिया का चौथा सबसे अधिक आबादी वाला देश है
और साथ ही सबसे बड़ा मुस्लिम आबादी वाला देश भी है।
 🚩बीते
अक्टूबर में #इंडोनेशिया सरकार ने #प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भारत की
कई जगहों पर #इंडोनेशिया की रामायण पर आधारित रामलीला का मंचन करवाने की
मांग की थी। यही नहीं #इंडोनेशिया ने #मोदी सरकार से हर साल #रामायण पर्व
के #आयोजन की भी मांग की।
🚩आपको
बता दें कि इंडोनेशिया भी चाहता है कि भारतीय कलाकार वहां जाकर इंडोनेशिया
के कई शहरों में रामायण का मंचन किया जाए। इंडोनेशिया में रामायण सर्वाधिक
लोकप्रिय काव्य ग्रंथ है।
🚩भारत
में #राम की नगरी जहां #अयोध्या है, वहीं इंडोनेशिया में यह योग्या के नाम
से स्थित है। यहां राम कथा को #’काकावीन रामायण’ नाम से जाना जाता है।
🚩इंडोनेशिया
की रामायण 26 अध्यायों का एक विशाल ग्रंथ है। इस रामायण में प्राचीन
लोकप्रिय चरित्र दशरथ को विश्वरंजन कहा गया है, जबकि उसमें उन्‍हें एक शैव
भी माना गया है, यानी कि वे शिव के अराधक हैं।
🚩इंडोनेशिया
की रामायण का आरंभ भगवान राम के जन्म से होता है, जबकि विश्वामित्र के साथ
राम और लक्ष्मण के प्रस्थान में समस्त ॠषिगणों की ओर से मंगलाचरण किया
जाता है और दशरथ के घर इस ज्येष्ठ पुत्र के जन्म के साथ ही हिंदेशिया का
वाद्य यंत्र गामलान बजने लगता है। वहीं यहां नौ सेना के अध्यक्ष को लक्ष्मण
कहा जाता है। जबकि सीता को सिंता और हनुमान तो इंडोनेशिया के सर्वाधिक
लोकप्रिय पात्र हैं।
🚩हनुमान
जी की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आज भी हर साल
इस मुस्लिम आबादी वाले देश के आजादी के जश्न के दिन यानी की 27 दिसंबर को
बड़ी तादाद में राजधानी जकार्ता की सड़कों पर युवा हनुमान जी का वेश धारण कर
सरकारी परेड में शामिल होते हैं। हनुमान को इंडोनेशिया की भाषा मे ‘अनोमान’
कहा जाता है।
🚩रामायण ही नही इंडोनेशियाई रुपिया का #20,000 का नोट पर भगवान #गणेश की भी #तस्वीर छपी है।
🚩इंडोनेशिया में हिंदू देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। वहां भगवान गणेश को कला, शास्त्र और बुद्धिजीवी का भगवान माना जाता है।
🚩
#इंडोनेशिया में #जकार्ता स्क्वेर में #कृष्ण-अर्जुन के पुतले भी लगे हैं।
इंडोनेशिया की सेना भी अपना रक्षक हिंदू भगवान हनुमान को मानते हैं। #बाली
टूरिज्म का लोगो (Logo) भी #हिंदु शास्त्रों में से ही लिया गया है। वहां
के एक कॉलेज के लोगो(Logo) पर भी भगवान गणेश हैं।
🚩सबसे
ज्यादा #मुस्लिम आबादी वाला देश #इंडोनेशिया तो #हिन्दू देवी-देवताओं का
#महत्व समझकर उन्नत हो रहा है और हमारी #देवभूमि भारत में कब हिन्दू
देवी-देवताओं का महत्व समझेंगे ???
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

हैदराबाद उच्च न्यायालय : भगवान और मां के स्थान पर है पवित्र गौ-माता

हैदराबाद उच्च न्यायालय : भगवान और मां के स्थान पर है पवित्र गौ-माता
11,जून, 2017
कुछ
दिन पहले ही राजस्थान उच्च न्यायालय ने गाय को राष्ट्रीय पशु का दर्जा
देने की बात कही थी । अब #हैदराबाद उच्च न्यायालय के जज बी शिवा शंकर राव
ने भी कहा कि गाय को #राष्ट्रीय पशु का दर्जा मिलना ही चाहिए । साथ ही
उन्होंने गाय को पवित्र राष्ट्रीय धरोहर बताते हुए यह भी कहा कि पवित्र गाय
“मां और भगवान” की जगह पर है ।
Azaad Bharat – judge b shiva shanker
#पशु
व्यवसायी रामावत हनुमा की #हाईकोर्ट में दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए
जज ने यह बात कही । #याचिकाकर्ता #रामावत ने उसकी जब्त की गई 63 #गायों की
#कस्टडी के लिए निचली अदालत में गुहार लगाई थी । निचली #अदालत में अपील
खारिज होने के बाद उन्होंने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की थी ।
याचिकाकर्ता
का कहना है कि वह गायों को चराने के लिए अपने गांव के पास कंचनपल्ली गांव
लेकर गया था । वहीं, दूसरी तरफ के पक्ष का कहना है कि रामावत गायों को
बेचने के लिए ले जा रहा था ताकि #बकरीद के दौरान #गौमांस बेच सके ।
जस्टिस
बी शिवा शंकर राव ने रामावत हनुमा की अपील खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट
के आदेश का हवाला दिया । सुप्रीम कोर्ट की उस टिप्पणी का जस्टिस राव ने
हवाला दिया जिसमें कहा गया था कि मुस्लिमों को बकरीद के मौके पर स्वस्थ
गायों को मारकर उनका मांस खाने का कोई #संवैधानिक अधिकार नहीं है ।
 #न्यायाधीश ने #बाबर का उदाहरण देते हुए कहा कि, उन्होंने गौहत्या पर
पाबंदी लगाई थी। न्यायाधीश ने आगे कहा कि, बाबर ने अपने बेटे #हुमायूँ को
भी ऐसा ही करने को कहा था। न्यायाधीश ने कहा कि #अकबर, #जहांगीर और अहमद
शाह ने भी #गौहत्या पर पाबंदी रखी थी।
वहीं
उन्होंने आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के जानवरों का इलाज करने वाले
#डॉक्टरों को भी कड़क निर्देश दिया कि स्वस्थ गायों को दूध देने में असमर्थ
बताने वाले डॉक्टरों पर भी कार्रवाई होगी ।
आपको
बता दें कि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में गायों को कत्लगाह में ले जाने की
अनुमति तभी है जब डॉक्टरों द्वारा यह सर्टिफिकेट दे दिया जाए कि गाय अब
दूध दे सकने में समर्थ नहीं है । जस्टिस राव ने यह भी बताया कि अब एपी काउ
स्लॉटर ऐक्ट 1977 में संशोधन के बाद अब इस अपराध को #गैरजमानती और गंभीर भी
माना जाएगा ।
गौ-माता की महिमा है बड़ी भारी
अमेरिका के #कृषि विभाग द्वारा #गौ -महिमा आधारित एक #पुस्तक प्रकाशित की गई है जिसका नाम है “#THE COW IS A WONDERFUL LABORATORY “
THE
COW IS A WONDERFUL LABORATORY के अनुसार प्रकृति के समस्त जीव-जंतुओं और
सभी दुग्धधारी जीवों में केवल #गाय ही ऐसा प्राणी है जिसके शरीर में लम्बी
आंत होती है जबकि अन्य पशुओं में ऐसा नहीं है । इसी कारण #गाय जो भी
खाती-पीती है वह अंतिम छोर तक जाता है । इसलिये उसका #दूध उत्तम माना जाता
है ।

#शास्त्रों
के अनुसार #सूर्य में से अनेक किरणें निकलती हैं जिसमें से एक #गौ-किरण भी
निकलती है जो केवल #गाय माता ही ग्रहण करती है जिससे उसका नाम #गौ-माता
रखा गया और इसलिये #गौ दूध में पीलापन यानि #सुवर्णक्षार होते हैं ।
#गौ
वात्सल्य :-  #गौ माता बच्चा जनने के  बाद अपने बच्चे के साथ रहती है और
उसे चाटती है इसीलिए लाखों बच्चों में भी वह अपने बच्चे को पहचान लेती है
जबकि #भैंस और जरसी अपने बच्चे को नहीं पहचान पाती ।
#गाय
जब तक अपने बच्चे को अपना #दूध नहीं पिलाएगी तब तक #दूध नहीं देती है ,
जबकि भैस,जर्सी होलिस्टयन के आगे चारा डालो और #दूध दुह लो ।
आज बच्चों में क्रूरता इसीलिए भी बढ़ रही है क्योंकि जिसका वे #दूध पी रहे हैं उसके अन्दर ममता नहीं है ।
देसी
#गाय की खीस : बच्चा देने के बाद  #गाय के स्तन से जो #दूध निकलता है उसे
खीस, चाका, पेवस, कीला, तेली कहते हैं। #बच्चा देने के 15 दिनों तक इस दूध
में #प्रोटीन की अपेक्षा #खनिज तत्वों की मात्रा अधिक होती है व लेक्टोज,
वसा ( फैट ) एवं पानी की मात्रा कम होती है ।
#खीस वाले दूध में एल्व्युमिन दो गुनी , ग्लोव्लुलिन 12-15 गुनी तथा #एल्युमीनियम की मात्रा 6 गुनी अधिक पायी जाती है ।
#लाभ : खीज में भरपूर खनिज है ।
 काली #गौ का दूध ( खीझ) एक हफ्ते पिला देने से वर्षो पुरानी टी.बी. खत्म हो जाती है । कई भयंकर बीमारियां ठीक हो जाती हैं ।
#सींग
:- #गाय के सींगो का आकार सामान्यतः पिरामिड जैसा होता है , जो कि
शक्तिशाली एंटीना की तरह आकाशीय उर्जा ( कोस्मिक एनर्जी ) को संग्रह करने
का कार्य करते हैं।
#देसी
#गाय का कन्धा ( ढिल्ला ) : #गाय के कुकुद्द में सूर्यकेतु नाड़ी होती है
जो सूर्य से अल्ट्रावायलेट किरणों को रोकती है , #गाय के #दूध में सोना
पाया जाता है जिससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है इसलिए #गाय का #घी
हल्के पीले रंग का होता है ।
#देसी
गाय का दूध :  #गाय के दूध के अन्दर जल 87 % वसा 4 %, प्रोटीन 4% , शर्करा
5 % , तथा अन्य तत्व 1 से 2 % प्रतिशत पाये जाते हैं । गाय के दूध में 8
प्रकार के प्रोटीन , 11 प्रकार के विटामिन्स तथा गाय के दूध में ‘ कैरोटिन ‘
नामक प्रदार्थ भैस से दस गुना अधिक होता है ।
#भैस का #दूध गर्म करने पर उसके पोषक ज्यादातर खत्म हो जाते हैं परन्तु गाय के दूध के पोषक तत्व गर्म करने पर भी सुरक्षित रहते हैं ।
#गाय
का #मूत्र :  #गाय के #मूत्र में #आयुर्वेद का खजाना है , इसके अन्दर ‘
#कार्बोलिक एसिड ‘ होता है जो कीटाणु नाशक है , #गौ मूत्र चाहे जितने दिनों
तक रखे खराब नहीं होता है, इसमें #कैसर को रोकने वाली “करक्यूमिन” पायी
जाती है । गौ मूत्र में नाइट्रोजन ,फास्फेट, यूरिक एसिड , पोटेशियम ,
सोडियम , लैक्टोज , सल्फर, अमोनिया, लवण रहित विटामिन ए वी सी डी ई ,
इन्जैम आदि तत्व पाए जाते हैं । देसी गाय के #गोबर-मूत्र-मिश्रण से ‘
#प्रोपिलीन ऑक्साइड ” उत्पन्न होती है जो बारिश लाने में सहायक होती है ।
इसी के मिश्रण से ‘ #इथिलीन ऑक्साइड ‘ गैस निकलती है जो ऑपरेशन थियटर में
काम आती है ।
#गौ मूत्र में मुख्यतः 16 खनिज तत्व पाये जाते हैं जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं ।
#गौ
माता के #गोबर से गैस बनती है जो आपके #रसोई घर में उपयोग आ सकती है ।
उसका खाद जिस जमीन पर पड़ता है वो बंजर जमीन भी उपजाऊ हो जाती है और उस जमीन
का धान्य बहुत पौष्टिक होता है ।
#गौ-माता के सूखे कंडे में #घी डालकर धुँआ किया जाये तो 1 टन #ऑक्सीजन बनता है ।
#दुनिया
में किसी भी प्राणी का मल-मूत्र पवित्र नही माना जाता । यहाँ तक कि
#मनुष्य का भी मल-मूत्र पवित्र नही माना जाता है केवल #गाय ही ऐसा प्राणी
है जिसका #गोबर और #गौ-मूत्र पवित्र माना जाता है । यहाँ तक कि #पूजा पाठ
में भी #गोबर और #गौ-मूत्र का उपयोग किया जाता है ।
#गौ माता के #दूध #दही #घी #मूत्र व #गोबर का #पंचगव्य बनाकर पिया जाये तो भयंकर बीमार व्यक्ति भी ठीक हो जाता है ।
#गाय का शरीर : #गाय के शरीर से पवित्र #गुगल जैसी सुगंध आती है जो वातावरण को शुद्ध और पवित्र करती है ।
जननी जनकार #दूध पिलाती, केवल साल छमाही भर !
#गोमाता पय-सुधा पिलाती, रक्षा करती #जीवन भर !!
#गौ-माता की कितनी भी महिमा गाओ, कम है ।
अब वक्त आ गया है कि सभी को मिलकर #गौ-माता को #राष्ट्रपशु का दर्जा दिलाकर तन-मन-धन से इसकी रक्षा करनी है ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

ब्रिटेन चुनाव : भारतीय मूल के 12 सांसदों ने जीत हासिल कर रचा इतिहास

ब्रिटेन चुनाव : भारतीय मूल के 12 सांसदों ने जीत हासिल कर रचा इतिहास
जून,10, 2017
हमारे
भारत की #संस्कृति कितनी महान है इसका कोई अंदाजा नही लगा सकता है इसकी
वजह से भारतीय सभी देशों में सभी क्षेत्रों में सबसे आगे हैं ।
लन्दन : ब्रिटेन के चुनावों में पहली बार भारतीय मूल के भारतीय उम्‍मीदवारों ने ना सिर्फ जीत हासिल की है बल्कि इतिहास भी रचा है।
UK-elections-12-Indian-origin-MPs-win-history
🚩ब्रिटेन
में समय पूर्व हुए चुनावों के परिणाम शुक्रवार (9 जून, 2017) को घोषित किए
गए हैं।  #कंजरवेटिव पार्टी से पांच और लेबर पार्टी से सात उम्मीदवार ।
दोनों  प्रमुख दलों से इस बार 12 भारतीय मूल के लोगों ने चुनाव जीतकर
इतिहास बनाया है।
🚩ब्रिटेन
के आम चुनाव के नतीजों में #प्रथम महिला #सिख सांसद और प्रथम #पगड़ीधारी
#सांसद चुने जाने के साथ #‘हाऊस ऑफ कॉमंस’ में भारतीय मूल के सांसदों की
संख्या बढ़ गई है।
🚩#तनमनजीत
सिंह धेसी ब्रिटेन के इतिहास में पहली बार पगड़ीधारी सांसद के रूप में
चुने गए हैं जबकि प्रीत कौर गिल ब्रिटेन #पार्लियामेंट की ऐसी पहली सिख
महिला हैं जो सांसद चुनी गई हैं।
🚩गिल
ने #बर्मिंघम एजबेस्‍टन सीट से अपने विरोधी को 6,917 वोटों से हराया।
चुनाव जीतने के बाद गिल ने कहा कि मुझे इस बात की खुशी है कि एजबेस्‍टन से
सांसद बनने का मौका मिला ।
🚩जबकि #तनमनजीत सिंह धेसी उर्फ टैन भी लेबर पार्टी से ही जुड़े हैं। धेसी ने अपने विरोधी को 16,998 मतों से हराया।
🚩#कंजर्वेटिव पार्टी से मंत्री रही प्रीती पटेल भी चुनाव जीत गई हैं ।
🚩#आलोक
शर्मा रीडिंग वेस्ट में और शैलेश वारा कैम्ब्रिजशायर नार्थ वेस्ट से जीते
हैं। ऋषि सुनाक और सुएला फर्नांडीस (टोरी) ने भी जीत हासिल कर ली है ।
🚩कीथ वाज और उनकी बहन वलेरी वाज ने भी जीत दर्ज की।
🚩आपको बता दें कि केवल ब्रिटेन में ही नही कनाडा में तो रक्षामंत्री मूल भारतीय हैं।
🚩कुछ
समय पहले चुनाव हुआ था, उसमें कनाडा की लिबरल पार्टी के नेता जस्टिन
ट्रुडेव ने 32वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली।  तीस  संसदीय मंत्रिमंडल
में ट्रुडेव के कैबिनेट में हरजीत सज्जन, नवदीप बैंस, अमरजीत सोही और बंदिश
चैगर 4 मूल भारतीय हैं ।
🚩1)- #हरजीत सज्जन कनाडा के #रक्षामंत्री बनाये गए हैं।
🚩2)- #नवदीप बैंस को विज्ञान और #आर्थिक विकास मंत्री बनाया गया है।
🚩3)-  #चैगर ओन्टोरिया को #स्मॉल बिजनेस और टूरिज्म मिला है।
🚩4)- #अमरजीत सोही को जहां #इंफ्रास्ट्रक्चर और कम्युनिटीज मिला है।
🚩अमेरिका #राजनीती में भी कई मुख्य पद पर #भारतीय हैं और भी कई देशो में भारतवासी हैं ।
🚩अमेरिका के पूर्व #राष्ट्रपति बराक #ओबामा ने अपने स्पीच में कहा था कि भारतीय युवाओं में अद्भुत दिमाग है।
🚩आपको बता दें कि अमेरिका में सबसे ज्यादा पढ़े लिखे हिंदू हैं ।
🚩नए अध्ययन #विज्ञप्ति में यह बात सामने आई है कि अमेरिका में तमाम ग्रेजुएट वयस्को में से #हिन्दू 77 % ग्रेजुएट है ।
🚩अमेरिकी जनगणना ब्यूरो के मुताबिक अमेरिका में भारतीय भाषाओ में #हिन्दी सबसे अधिक बोली जाती है।
🚩भारत की #राष्ट्रीय भाषा हिन्दी शीर्ष स्थान पर है। अमेरिका में करीब 6.5 लाख लोग हिन्दी बोलते हैं।
🚩वहाँ हिंदुओं का कहना है कि उनकी सफलता का राज वह हिंदू #संस्कृति के धर्म अनुसार ही जीवन जीते हैं इसलिए वो सफल हो रहे है।
🚩सभी
देशों में और सभी क्षेत्रो में भारतीय आगे हैं । भारत विश्व गुरु पद की ओर
आसीन हो रहा है। #भारत को #विश्वगुरु बनने से कोई नही रोक सकता क्योंकि
हमारी #हिन्दू संस्कृति महान है जो ऋषि मुनियों की देन है ।
🚩अभी
भी #भारत देश में सच्चे संत हैं भले ही हमारे संतों को मिटाने के लिए
कितने भी षड़यंत्र करें, जेल में भेज दे लेकिन सत्य कभी मिटाया नही जा सकता
है । हमारी संस्कृति महान थी, महान है और महान रहेगी उसको कोई मिटा नही
सकता। भारत #विश्वगुरु बनकर ही रहेगा ।
🚩हमारे
ऋषि-मुनियों के द्वारा हमको अद्भुत तरीके मिले हैं जिससे हम मानव से
महेश्वर तक यात्रा कर सके ऐसी दुर्लभ कुंजियां दी हैं हमारे ऋषि मुनियों ने
हमको ।
🚩अभी
भी हमारे संतों की देन है कि #सनातन हिन्दू संस्कृति को जीवित रखा है
इसलिए भारतीय सभी देशों में सभी क्षेत्रों में सबसे आगे हैं ।
🚩जागो भारतीय!
🚩अपनी
#महान संस्कृति को पहचानों और जो हमारे #हिन्दू संतों और संस्कृति पर
#ईसाई मिशनरियों द्वारा हमले हो रहे है उसको रोकने के लिए कमर कसो ।
🚩जय हिन्द !!
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

बापू आसारामजी बोले: मोदीजी और उनके साथ जो देश की सेवा करते हैं उनका भगवान हौंसला बुलंद करे

 बापू आसारामजी बोले: मोदीजी और उनके साथ जो देश की सेवा करते हैं उनका भगवान हौंसला बुलंद करे
जून,9, 2017
जोधपुर
: हिन्दू संत #आसारामजी बापू ने 8 जून को जोधपुर सेशन कोर्ट में पेशी के
दौरान मीडिया से बातचीत करते समय प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी पार्टी
अध्यक्ष अमित शाह को कर्मयोगी कहा और धन्यवाद दिया है ।
Narendra Modi
 #बापू आसारामजी ने $मीडिया से बातचीत करते समय कहा कि #मोदीजी और उनके साथ
कन्धा मिलाकर देश की सेवा करते हैं उनका भगवान हौंसला बुलंद करे । कर्म को
योग बना रहे हैं बड़ी खुशी की बात है । ऐसे कर्मयोगी मोदीजी के साथ लगें
रहें तो देश को फायदा होगा ।
उन्होंने
आगे कहा कि #अमित_शाह और मोदी जी और उनके साथियों को भगवान और बल दें,
सच्चाई दें । 3 साल में कोई करप्शन का काम नहीं हुआ, बहुत खुशी की बात है ।
गरीबों के मकान बन रहे हैं यह भी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है ।
और
आगे कहा कि #मोदीजी के साथी उनसे कन्धा मिलाकर देश की सेवा करें । कर्मभोग
नहीं कर्मयोग हो जायेगा । मोदी जी और अमित शाह उनके साथी उनका भला हो
जायेगा, देश का भला कर रहे हैं तो उन्हीं का भला होगा ।
आपको
बता दें कि जब #नरेंद्र #मोदी #प्रधानमंत्री बने तभी संत आसारामजी बापू ने
#जोधपुर #कोर्ट के बाहर कहा था कि मैंने 8 साल पहले ही बताया था कि मोदी
जी प्रधानमंत्री बनेंगे और आज वो सपना साकार हुआ ।
जब
हिन्दू संत आसारामजी बापू बाहर थे तब कई बार उनके सत्संग-प्रवचन में
नरेंद्र मोदी (जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे) आया करते थे और अपना वक्तव्य
भी देते थे ।
आइये आपको बताते हैं कि क्या कहते थे नरेंद्र मोदी जी संत आसारामजी बापू के बारे में…
उन्होंने
कहा कि ‘‘मैं पूज्य #बापूजी के श्रीचरणों में प्रणाम करने आया हूँ ।
‘‘मैंने तो पूज्य बापूजी को हरियाणा में बैठकर सुना है, पंजाब में भी सुना
है, राजस्थान में भी सुना है, उत्तर प्रदेश के गलियारों में भी सुना है ।
समग्र राष्ट्र में सामूहिक सत्संग के द्वारा एक नयी चेतना जगी है और उसका
एक नया प्रभाव शुरू हुआ है ।’’
‘‘मेरा
ऐसा सौभाग्य रहा है कि जीवन में जब कोई नहीं जानता था, उस समय से बापूजी
के आशीर्वाद मुझे मिलते रहे हैं, स्नेह मिलता रहा है । मैं मानता हूँ कि
बापू के शब्दों में एक यौगिक शक्ति रहती है । उस यौगिक शक्ति के भरोसे हम
करोड़ों गुजरातवासियों के सपने साकार होंगे ।’’
श्री
नरेन्द्रभाई मोदी ने आगे कहा था : ‘‘पूज्य बापूजी ! आप देश और दुनिया –
सर्वत्र #ऋषि-परम्परा की संस्कार-धरोहर को पहुँचाने के लिए अथक तपश्चर्या
कर रहे हैं । अनेक युगों से चलते आये मानव-कल्याण के इस तपश्चर्या-यज्ञ में
आप अपने पल-पल की आहुति देते रहे हैं । उसमें से जो संस्कार की दिव्य
ज्योति प्रकट हुई है, उसके प्रकाश में “मैं और जनता” सब चलते रहें । मैं
संतों के आशीर्वाद से ही जी रहा हूँ । मैं यहाँ इसलिए आया हूँ कि लाइसेंस
रिन्यू हो जाय । पूज्य बापूजी ने आशीर्वाद दिया और आप सबको वंदन करने का
मौका दिया, इसलिए मैं #बापूजी का ऋणी हूँ ।’’
आपको
बता दें कि कुछ साल पहले संत आशारामजी बापू ने श्री नरेन्द्रभाई मोदी को
शुभाशीष प्रदान करते हुए कहा था कि ‘‘हम आपको देश के प्रधानमंत्री के रूप
में देखना चाहते हैं ।’’ बापूजी के संकल्प में उनके करोड़ों #साधकों-भक्तों
का संकल्प भी जुड़ गया और आज वह साकार हो चुका है ।
गौरतलब
है कि हिन्दू संत आशारामजी बापू 4 साल से बिना सबूत जोधपुर जेल में बन्द
हैं और अभीतक जमानत नही मिलने पर 70 वर्ष तक हिमालय में तपस्या करने वाले
100 वर्ष से अधिक उम्र वाले बोरिया बाबा जिनकी श्रीमति इंदिरा गांधी से
लेकर वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी तक से भी वार्तालाप होती रही है
उन्होंने प्रधानमंत्री को एक खत लिखा था और बताया था कि “मोदी जी मेरा आपसे
कहना है कि जिस राजा के राज में संत सताए जाए तथा संत महात्मा भयभीत होकर
रहें, तो उस राजा का भविष्य कतई उज्जवल नहीं है । इसलिए मेरी तो आपको सलाह
है कि संत आशारामजी बापू एक निर्दोष संत हैं । आप सम्मान के साथ उनकी आजादी
का जल्दी से जल्दी प्रबंध कर दें ।”

बापू
आसारामजी के #देश-विदेश के करोड़ो अनुयायियों और कई हिन्दू संगठनों ने उनके
लिए धरने दिए, रैलियां निकाली, ज्ञापन दिए लेकिन उनको अभीतक कोई राहत मिली
नही है ।
अब
जनता ये देखना चाहती है कि बिना सबूत 4 साल से जेल में बंद आसारामजी बापू
की रिहाई के लिए प्रधानमंत्री #नरेंद्र_मोदी कब ठोस कदम उठाते हैं..???
Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

देश के एकमात्र वकील, जो पिछले 40 वर्षों से ‘संस्कृत’ में कर रहे हैं वकालत

देश के एकमात्र वकील, जो पिछले 40 वर्षों से ‘संस्कृत’ में कर रहे हैं वकालत
देववाणी #संस्कृत के प्रति भले ही लोगों का रुझान कम हो परंतु वाराणसी के अधिवक्ता आचार्य पंडित #श्यामजी उपाध्याय का संस्कृत के लिए समर्पण शोभनीय है। 1976 से वकालत करनेवाले आचार्य पण्डित श्यामजी उपाध्याय 1978 में अधिवक्ता बने। इसके बाद इन्होंने देववाणी #संस्कृत को ही पसंद दी।
Advocate Shyam ji Upadhya
आचार्य पंडित #श्यामजी उपाध्याय ने बताया कि जब मैं छोटा था, तब मेरे पिताजी ने कहा था कि कचहरी में काम हिंदी, अंग़्रेजी और उर्दू में होता है परंतु #संस्कृत भाषा में नहीं। ये बात मेरे मन में घर कर गई और मैंने संस्कृत भाषा में वकालत करने की ठानी और ये सिलसिला आज भी चार दशकों से जारी है !’
ये कहना है वाराणसी की कचहरी में संस्कृत को जीवंत करनेवाले अधिवक्ता आचार्य पंडित श्यामजी उपाध्याय का, जो पिछले #40 वर्षों से #संस्कृत में वकालत कर रहे हैं।
सभी न्यायालयीन काम जैसे- #शपथपत्र, #प्रार्थनापत्र, #दावा, वकालतनामा और यहां तक की बहस भी #संस्कृत में करते चले आ रहे हैं। पिछले 4 दशकों में संस्कृत में वकालत के दौरान श्यामजी के पक्ष में जो भी निर्णय और आदेश हुआ, उसे न्यायाधीश साहब ने संस्कृत में या तो हिंदी में सुनाया।
#‘संस्कृतमित्रम्’ आचार्य पंडित श्यामजी उपाध्याय
#संस्कृत भाषा में कोर्टरूम में बहस सहित सभी लेखनी प्रस्तुत करने पर सामनेवाले पक्ष को असहजता होने के सवाल पर श्यामजी ने बताया कि वो संस्कृत के सरल शब्दों को तोड़-तोड़कर प्रयोग करते हैं, जिससे न्यायाधीश से लेकर विपक्षियों तक को कोई दिक्कत नहीं होती है और अगर कभी सामनेवाला राजी नहीं हुआ तो वो हिंदी में अपनी कार्यवाही करते हैं।
केवल कर्म से ही नहीं अपितु #संस्कृत भाषा में आस्था रखनेवाले श्यामजी हर वर्ष कचहरी में संस्कृत दिवस समारोह भी मनाते चले आ रहे हैं। लगभग #5 दर्जन से भी अधिक अप्रकाशित रचनाओं के अलावा श्यामजी की 2 रचनाएं #“भारत-रश्मि” और #“उद्गित” प्रकाशित हो चुकी हैं ।
कचहरी समाप्त होने के बाद श्याम जी अपना शाम का समय अपनी चौकी पर संस्कृत के छात्रों और संस्कृत के प्रति जिज्ञासु अधिवक्ताओं को पढ़ा कर बिताते हैं । #संस्कृत भाषा की यह शिक्षा श्यामजी निःशुल्क देते हैं।
संस्कृत भाषा में रूचि लेनेवाले बुज़ुर्ग अधिवक्ता #शोभनाथ लाल #श्रीवास्तव ने बताया कि, संस्कृत भाषा को लेकर पूरे न्यायालय परिसर में श्यामजी के लोग चरण स्पर्श ही करते रहते हैं।
जब ये कोर्टरूम में रहते हैं तो इनके सहज-सरल #संस्कृत भाषा के चलते श्रोता शांति से पूरी कार्यवाही में रुचि लेते हैं। श्यामजी के संपर्क में आने से उनके #संस्कृत भाषा का ज्ञान भी बढ़ गया।
आचार्य #श्यामजी उपाध्याय संस्कृत अधिवक्ता के नाम से प्रसिध्द हैं। वर्ष #2003 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने संस्कृत भाषा में अभूतपूर्व योगदान के लिए इनको #‘संस्कृतमित्रम्’ नामक #राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया था।
प्राचीन काल से ही संस्कृत भाषा भारत की सभ्यता और #संस्कृति का सबसे मुख्य भाग रही है। फिर भी आज हमारे देश में संस्कृत को पाठशाला शिक्षा में अनिवार्य करने की बात कहने पर इसका विरोध शुरू हो जाता है।
हम भारतवासियों ने अपने देश की #गौरवमयी संस्कृत भाषा को महत्व नही दिया। आज हमारे देश के विद्यालयों में संस्कृत बहुत कम पढ़ाई और सिखाई जाती है। किंतु आज अपनी #मातृभूमि पर उपेक्षा का दंश झेल रही संस्कृत, विश्व में एक सम्माननीय भाषा और सीखने के महत्वपूर्ण पड़ाव का दर्जा हासिल कर रही है। जहाँ भारत के तमाम पब्लिक पाठशालों में फ्रेंच, जर्मन और अन्य विदेशी भाषा सीखने पर जोर दिया जा रहा है वहीं #विश्व की बहुत सी पाठशालाएं संस्कृत को पाठ्यक्रम का हिस्सा बना रहे हैं।
अमेरिका के नेता राजन झेद ने कहा है कि, संस्कृत को सही स्थान दिलाने की आवश्यकता है। एक ओर तो सम्पूर्ण विश्व में संस्कृत भाषा का महत्व बढ रहा है, वहीं दूसरी ओर भारत में संस्कृत भाषा के विस्तार हेतु ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं जिसके कारण भारत में ही संस्कृत का #विस्तार नहीं हो पा रहा है और संस्कृत भाषा के महत्व से लोग #अज्ञात हैं । हिंदू धर्म के अलावा बौद्ध और जैन धर्म के तमाम ग्रंथ संस्कृत में लिखे गए हैं।
न्यूजीलैंड की एक पाठशाला के प्रिंसिपल #पीटर क्राम्पटन कहते हैं कि, दुनियाँ की कोई भी भाषा सीखने के लिए #संस्कृत भाषा आधार का काम करती है।
संस्कृत विश्व की सर्वाधिक ‘पूर्ण’ (perfect) एवं #तर्कसम्मत भाषा है, संस्कृत ही एक मात्र साधन है जो क्रमश: अंगुलियों एवं जीभ को #लचीला बनाते हैं। इसके अध्ययन करने वाले छात्रों को गणित, विज्ञान एवं अन्य भाषाएँ ग्रहण करने में सहायता मिलती है।
अब केन्द्र सरकार व राज्य सरकारों को सभी स्कूलों, कॉलेजों में संस्कृत भाषा को #अनिवार्य करना चाहिए जिससे बच्चों की #बुद्धिशक्ति का विकास के साथ साथ बच्चे #सुसंस्कारी बने और हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त करें ।
Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

जानिए कश्मीर का इतिहास और उसे हड़पने के लिए अलगाववादी नेताओं को पाकितान ने कितने दिए पैसे?

जानिए कश्मीर का इतिहास और उसे हड़पने के लिए अलगाववादी नेताओं को पाकितान ने कितने दिए पैसे?🚩 *जानिए कश्मीर का इतिहास और उसे हड़पने के लिए अलगाववादी नेताओं को पाकितान ने कितने दिए पैसे?*
🚩प्राचीनकाल में #कश्मीर #हिन्दू संस्कृति का गढ़ रहा है। यहाँ पर भगवान शिव और सती पार्वती रहते थे । यहाँ झील में देवताओं का वास था, वहाँ एक राक्षस भी रहने लगा, जो देवताओं को सताने लगा, जिसका वैदिक #ऋषि कश्यप और #देवी सती ने मिलकर अंत कर दिया, #ऋषि कश्यप द्वारा उस असुर को मारने से उस जगह का नाम #कश्यपमर पड़ा, जो आगे चलकर #कश्मीर नाम से जाना जाने लगा ।
Kashmir Conspiracy
🚩कश्मीर #संस्कृत विद्या का विख्यात केन्द्र रहा। कश्मीर शैवदर्शन भी यहीं पैदा हुआ और पनपा। यहां के महान मनीषियों में #पतञ्जलि, #दृढबल, वसुगुप्त, आनन्दवर्धन, अभिनवगुप्त, कल्हण, क्षेमराज आदि हैं। यह धारणा है कि विष्णुधर्मोत्तर पुराण एवं योगवशिष्ठ यहीं लिखे गये।
🚩कश्मीर सदियों तक एशिया में #संस्कृति एवं दर्शन शास्त्र का एक महत्वपूर्ण केंद्र रहा और संतों का दर्शन यहां की सांस्कृतिक विरासत का महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है।
🚩प्राचीन काल में यहाँ हिन्दू आर्य राजाओं का राज था।
मौर्य #सम्राट अशोक और कुषाण सम्राट #कनिष्क के समय कश्मीर बौद्ध धर्म और संस्कृति का मुख्य केन्द्र बन गया। पूर्व-मध्ययुग में यहाँ के चक्रवर्ती सम्राट #ललितादित्य ने एक विशाल साम्राज्य कायम कर लिया था।
🚩मध्ययुग में #मुस्लिम आक्रान्ता #कश्मीर पर काबिज हो गये। कुछ मुसलमान शाह और राज्यपाल (जैसे शाह ज़ैन-उल-अबिदीन) हिन्दुओं से अच्छा व्यवहार करते थे पर कई (जैसे सुल्तान सिकन्दर बुतशिकन) ने यहाँ के मूल कश्मीरी #हिन्दुओं को #मुसलमान बनने पर, या राज्य छोड़ने पर या मरने पर मजबूर कर दिया। कुछ ही सदियों में कश्मीर घाटी में #मुस्लिम बहुमत हो गया। मुसलमान शाहों में ये बारी बारी से अफगान, कश्मीरी मुसलमान, मुगल आदि वंशों के पास गया।
🚩मुगल सलतनत गिरने के बाद ये सिख महाराजा #रणजीत सिंह के राज्य में शामिल हो गया। कुछ समय बाद जम्मू के हिन्दू डोगरा राजा #गुलाब सिंह डोगरा ने ब्रिटिश लोगों के साथ सन्धि करके जम्मू के साथ साथ कश्मीर पर भी अधिकार कर लिया (जिसे कुछ लोग कहते हैं कि कश्मीर को खरीद लिया)। डोगरा वंश भारत की आजादी तक कायम रहा।
🚩भारत की स्वतन्त्रता के समय हिन्दू राजा #हरि सिंह यहाँ के शासक थे।  कश्मीर को लेने के लिए पाकिस्तानी फौज द्वारा आक्रमण हुआ उस समय #जवाहरलाल नेहरु प्रधानमंत्री थे उन्होंने भारतीय सेना भेजने से इन्कार कर दिया लेकिन सरदार वल्लभ भाई पटेल ने हवाई जहाज से कश्मीर में सैन्य भेजा तबतक कश्मीर का दो तिहायी हिस्सा पाकिस्तान कब्जाने में सफल रहा।
🚩कश्मीर का बाकी का हिस्सा गुरुजी (माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर) के समझाने पर महाराजा ने भारत में विलय कर दिया। भारतीय सेना ने कश्मीर राज्य का काफी हिस्सा बचा लिया । भारतीय सेना दो हिस्से लेने की तैयारी में थी तबतक नेहरू ने सैन्य को युद्ध विराम दे दिया । जो आजतक पोक आदि हिस्से पाकिस्तान अदिकृत में हैं । नेहरू की वजह से आज तक #अलगावादि नेता वहाँ राज कर रहे हैं ।
🚩सदियों से कश्मीर में रह रहे कश्मीरी पंडितों को 1990 में पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित #आतंकवाद की कारण से घाटी छोड़नी पड़ी या उन्हें जबरन निकाल दिया गया।
🚩कश्मीर के #अलगाववादी नेताओं पर आज भी केंद्र और #राज्य सरकार हर साल उनकी मौज मस्ती और सुरक्षा के लिए हर साल #100 करोड़ खर्च करती है ।
🚩उसके बाद भी वे पाकितान से करोड़ो रूपये लेकर कश्मीर में #आतंक फैला रहे है और ऐशो आराम की जिंदगी जी रहे हैं ।
🚩#एनआईए द्वारा #अलगावादी नेताओं के ठिकानों से मिले दस्तावेजों से खुलासा हो रहा है कि ये लोग किस तरह पाकिस्तान से फंड लेकर घाटी में #आतंक के लिए संसाधन जुटाते हैं और खुद शान-ओ-शौकत से भरी जिंदगी जीते हैं।
🚩एनआईए को #अलगावादी नेताओं के यहां हुई छापेमारी के बाद कई अहम सूचनाएं मिली हैं। संकेत मिले हैं कि पिछले 8 सालों में पाकिस्तान की ओर से करीब #1500 करोड़ रुपये भेजे गए। इनमें से लगभग आधी रकम हुर्रियत नेताओं ने आतंक फैलाने में लगाई और आधी रकम से खुद के लिए प्रॉपर्टी बनाई।
🚩ये जानकारियां #हुर्रियत नेताओं पर काबू पाने की दिशा में अहम तरीके से इस्तेमाल की जा सकती हैं। एनआईए ने शनिवार और रविवार को हुर्रियत नेताओं के श्रीनगर, जम्मू, दिल्ली और हरियाणा के 3 दर्जन ठिकानों पर लगातार छापे मारे थे।
🚩यह ऐक्शन #मनी लॉन्ड्रिंग और पाकिस्तान से पैसा लेने के सबूत मिलने के बाद लिया गया। छापेमारी में लगभग #3 करोड़ कैश के अलावा करोड़ों की संपत्ति का पता चला है। इसमें मिले कागजातों की जांच जारी है।
🚩शुरुआती जांच में जिन बातों का खुलासा हुआ है, उसमें सबसे अहम यह है कि हुर्रियत नेताओं ने पाकिस्तान से फंड लेकर घाटी में आतंक को बढ़ाने के लिए पर्याप्त संसाधन जुटाए। साथ ही इसी पैसे में उन्होंने अपने लिए संपत्ति भी बनाई। सूत्रों के अनुसार, छापे में पुख्ता सबूत मिले हैं कि पाकिस्तान से आए पैसे से इन नेताओं ने श्रीनगर, गुलमर्ग और सोनबर्ग में करोड़ों की बेनामी संपत्ति बनाई। अब इस #बेनामी संपत्ति की जांच का मामला प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) को दे दिया गया है।
🚩छापे के दौरान संकेत मिले हैं कि पिछले #7-8 सालों में #हुर्रियत नेताओं को पाक ने घाटी में गड़बड़ी फैलाने के लिए #1500 करोड़ से अधिक राशि दी है। पाकिस्तान से फंड मिलने की बात को इन नेताओं ने कैमरे के सामने एक स्टिंग में स्वीकार किया था।
🚩आपको बता दें कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा है कि आतंकियों और #अलगाववादियों को एक ही चश्मे से देखने की जरूरत है । उनके खिलाफ देशद्रोह का #मुकदमा दर्ज होना चाहिए ।
🚩आगे कहा था कि उनको एयर टिकट, होटल, सुरक्षा जैसी जो सुवि‍धाएं दी जा रही हैं, सब वापस होनी चाहिए । #केंद्र सरकार इस पर जल्दी फैसला लेगी और #125 करोड़ देशवासी भी #अलगाववादी नेताओं के खिलाफ हैं ।
🚩जो #अलगावादी नेता सुविधा के नाम पर देश के करोड़ो रूपये बर्बाद कर रहे हैं और पकिस्तान के समर्थन में देश के विरोध में कश्मीर में हिंसा भड़का रहे हैं #सरकार और #न्यायालय को शीघ्र सुविधा बन्द करके उन्हें जेल भेज देना चाहिए ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩
Attachments area

जानिए भारतीय संस्कृति की सेवा करने वालों के क्या हाल हैं..??

🚩जानिए भारतीय संस्कृति की सेवा करने वालों के क्या हाल हैं..??
🚩श्री जगदम्बा भवानी माँ ने शिवाजी महाराज को स्वप्न में दर्शन देकर तलवार और आशीर्वाद दिया था । उन्हीं श्री भवानी माँ ने श्री नागाबाबाजी को स्वप्न में दर्शन देकर प्रेरणाएँ और आशीर्वाद दिए हैं । जो मनुष्य मेरी इस प्रेरणाओं को अनजान सनातनधर्मावलम्बी मनुष्यों तक पहुँचाएगा वो मेरा कृपापात्र होगा, सुखी होगा और मृत्यु के बाद भी स्वर्ग का सुख प्राप्त करेगा।
save saint save nation
🚩क्या आप हिन्दू हैं..??
आपकी #संस्कृति की सेवा करने वालों के क्या हाल हैं..??आप जानते है..???
🚩1). हिन्दू साध्वी #प्रज्ञा ठाकुर धर्म का प्रचार करती थी,उन पर #बॉम्ब ब्लास्ट के #झूठे आरोप थोप कर वर्षों तक उनसे जेल में अमानुषी अत्याचार किये गए ।
🚩2). #शंकराचार्य #अमृतानन्द जी को भयंकर यातनाएं दी गई और 9 साल से जमानत भी नही दे रहे हैं ।
🚩3). शंकराचार्य श्री #जयेन्द्र सरस्वती #धर्मान्तरण प्रवृति का विरोद्ध करते थे। उनके ऊपर खून का झूठा आरोप लगाकर कानून के तहत फंसाकर जेल में डाल दिया,अत्याचार किये और जहर देकर निर्दोष छोड़ दिया अभी जहर के कारण बीमार रहते हैं ।
🚩4). #रामदेव महाराज की योग शिविर में रात्रि को सोए हुए लोगों को मारा गया और घायल कर दिया गया। उनमें से कुछ लोगों की मौत हो गई पर #अखबार में इस #न्यूज का नामोनिशान नहीं है । कितना अत्याचार सह रहे हैं हिन्दू ?
🚩5). #जैन साधु की योजना पूर्वक #हत्या की गई ।
धर्म को बदनाम कौन कर रहा है,ये #षड्यंत्र !!
🚩6). श्री #स्वामी नारायण संप्रदाय को बदनाम करने की बहुत कोशिशें हुई । मंदिर पर हमला किया। निर्दोष साधु और हरि भक्तों को गोली मार कर मौत के मुँह धकेला गया।
 🚩कौन कर रहा है ये सब..???
🚩किसी साधु को बदनाम करना, फिर उसे धर्म के साथ जोड़ कर धर्म को बदनाम करना ,धर्म के प्रति लोगों की श्रद्धा को तोड़ना, धार्मिक संस्कारों से लोगों को जोड़ कर #धर्मान्तरण का ये बड़ा खौफनाक #षड्यंत्र है ।
🚩7). दक्षिण भारत के साधु #नित्यानंदजी की झूठी चौकाने वाली सीडी बनाकर बलात्कार का #झूठा आरोप लगाया,जेल में ले गए,अत्याचार हुए फिर निर्दोष छोड़ दिया,पर ये किसी अखबार में नहीं आया ।
🚩8). श्री #कृपालु जी महाराज श्री कृष्ण भक्ति का प्रचार करते थे । 85 वर्ष की वृद्धवय के साधु पर नाबालिक लड़की के बलात्कार के झूठा आरोप लगाकर जेल भेज दिया गया और अत्याचार हुए । उनकी भक्ति प्रचार के कार्य को बंद करा दिया #धर्मातरण का ये #षड्यंत्र है ।
🚩9) ओडिसा के #लक्ष्मणानंद जी ने #धर्मांतरण पर रोक लगाई तो उनकी हत्या कर दी ।
🚩10) #गुरमीत राम-रहीम जी पर बलात्कार का #आरोप लगाकर बदनाम किया गया ।
🚩11). 81 वर्षीय #आसारामजी बापू और #नारायण साईं के ऊपर बलात्कार के #झूठे आरोप लगाकर जेल भेजा गया है । #धर्मांतरण विरोधी कार्य करनेवाले देश समाज और संस्कृति की सेवा करनेवाले इन महापुरुषों और उनके आश्रमों के विरुद्ध #षड्यंत्र कर रहे हैं और इन्हें पीड़ाएँ पहुँचा रहे हैं ।
🚩12). श्री #मोरारी बापूजी के ट्रस्ट में विद्रोह करके परेशान किया गया और #सीतारामसेवा ट्रस्ट बंद करा दिया |
🚩13). सौराष्ट्र (गुजरात) के #श्री केशवानन्द स्वामी के ऊपर यौनशोषण का #झूठा आरोप थोप कर बारह साल की जेल की सजा दी गई । सात साल जेल भोगने के बाद सरकार जागी और निर्दोष साबित किया पर किसी अखबार में कुछ नहीं छपा ।
🚩14). #विदेशी कंपनियां खाद्य पदार्थ में #गौमांस मिलाकर हिन्दू समाज का धर्म भ्रष्ट कर रही हैं ।
🚩15).  विदेशी पैसों से चल रही #न्यूज चैनल और अखबार #हिन्दू संत और #हिन्दू धर्म के विरुद्ध प्रचार करके मानव समाज के साथ धोखा कर रहे हैं ।
🚩16). हिंदुत्व का प्रचार करनेवाले #श्री सुरेश चौहान के ऊपर #यौन शोषण का #झूठा आरोप थोप कर परेशान किया गया ।
🚩क्या #हिन्दू कार्यकर्ता ही बलात्कारी होते है ?
🚩17). दक्षिण भारत के संत अमृतमयी माँ की बहुत गलत तरीके से बदनामी की गई ।
🚩18). संत और धर्म को #योजनापूर्वक बदनाम करके धर्म से हिंदुओं की #श्रद्धा तोड़ना,उनकी #दिशा,#संस्कार और #एकता को #तोड़ना,समग्र हिन्दू समाज का नाश करके देश को गुलाम बनाकर देश के ऊपर कब्जा करने का बहुत बड़ा #षड्यंत्र चल रहा है ।
🚩19). #श्री सत्य साईं बाबा गरीबों की सेवा करते थे उनके ऊपर झूठे #आरोप लगाकर झूठे केस में फंसा दिया गया। उनकी धर्मदान की सारी संपत्ति को लूट लिया, उनके धर्म कार्य को बंद करा दिया ।
🚩20). #श्री स्वाध्याय परिवार के #जयश्री दीदी के ऊपर #झूठे आरोप लगा कर परेशान किया गया। सम्पति पर कब्जा कर लिया । पांडुरंग दादाजी के धर्मकार्यो में अनेकों विक्षेप किये ।
🚩21). सिख भारत का हिन्दू है । सिख सनातन धर्म का अभिन्न अंग है । श्री गुरुजी ने सनातन धर्म की रक्षा के लिए सिखों की फौज बनाई थी, #सिखों को #सनातन धर्म से जुदा करने की कोशिश वर्षो से चल रही हैं । सिखों को अकेला कर सिख समाज पर हमला करने का #षड्यंत्र चल रहा है ।
🚩22). ३कलकत्ता और #केरल में हिंदुओं को योजना से परेशान किया है लाखो #हिंदुओं की #हत्या हुई है ।
🚩23). #राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के काफी लोगों की #हत्या की गई और कई अभी जेल में भी हैं ।
🚩24). पुलिस सैनिक #डीजी. वंजाराजी के ऊपर झूठे आरोप लगाकर 9 साल जेल में रखा गया ।
🚩25). #श्रीमद जयसिंगबाबा की हत्या करने का #षड्यंत्र हुआ था ।
🚩26) #श्री धनंजय देसाई को भी #षड्यंत्र के तहत जेल भेजा गया है ।
🚩27). हरिजन समाज को धन्यवाद है । अपने धर्म में दृढ़ है । हरिजन समाज हिन्दूधर्म का अभिन्न अंग है । उनको दलितनाम देकर अपमानित किया । उनको गुमराह करके अत्याचार किये हैं । ये देश को तोड़ने का षड्यंत्र है ।
🚩28). #गौमाता की अतिशय हत्याएं हो रही हैं। भारत में से #गौवंश समाप्त करने का #षड्यंत्र है । #गौमाता की #हत्या से कुदरती कोप होता है, बारिश नहीं होती, किसान दुखी होते हैं, मनुष्य में रोग बढ़ते हैं, क्षत्रिय समाज गौरक्षा करते हैं, परंतु क्षत्रिय समाज को कानूनी नियमों से समाज में आगे आने को नहीं मिलता ।
🚩29). पटेल समाज में विद्रोह करके लोगों को गुमराह किया गया और अत्याचार करके लोगों की हत्या की गई ।
🚩30). ब्राह्मणसमाज को स्थापना से पहले अनामत दी गई है परंतु कानून की किताब छुपा के रखी हुई है ।
🚩31). सहारनपुर में भीम आर्मी के नाम से #योगी सरकार को बदनाम करने के लिए हिंसा की गई ।
🚩जो भी #हिन्दू संस्कृति का प्रचार-प्रसार करने आगे आते हैं उनको बदनाम किया जाता है और बाद में उनको जेल भेजा जाता है या हत्या कर दी जाती है ।
🚩अतः #हिन्दुस्तानी सावधान रहें, जो #षडयंत्र कर रहे हैं उनका एकत्रित होकर मुकाबला करें ।
🚩जय हिन्द!!
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

अमेरिका के विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने रामायण पढ़ने के लिए अंग्रेजी भाषा छोड़ी

अमेरिका के विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने रामायण पढ़ने के लिए छोड दी अंग्रेजी
मई 5, 2016
#पाश्चत्य
संस्कृति के अंधानुकरण के कारण भले ही आज भारत में भगवान श्री राम और
#रामायण का महत्व कम समझ पा रहे हैं, लेकिन कई विदेशी बुद्धिजीवी लोगों ने
गीता, रामायण आदि ग्रन्थों का अध्ययन किया और आखिरी सार पर आये कि दुनिया
में सबसे श्रेष्ठ हिन्दू धर्म ही है और बाद में उन्होंने हिन्दू धर्म भी
अपना लिया ।
importance of Hindi
ऐसे
ही अमेरिका की विश्वविद्यालय ऑफ हवॉई के #प्राध्यापक #रामदास ने बताया कि
उन्होंने रामायण सीखने के लिए #अंग्रेजी का भी त्याग कर दिया ।
जबलपुर
: गुरु ने दो वर्ष तक अंग्रेजी न बोलने का संकल्प दिला दिया। फिर #हिंदी
बोलना सीखा। दो वर्ष तक लगातार अभ्यास किया और हिंदी सीख ली। अब भारत में
सभी से हिंदी में ही बात करता हूँ । यह बात चर्चा के दौरान अमेरिका की
विश्वविद्यालय ऑफ हवॉई में धर्म विभाग के प्राध्यापक रामदास ने कही।
उन्होंने
बताया कि मां काफी गरीब थी, जो दूसरों के घरों में सफाई करने जाया करती थी
। वहां से पुस्तकें ले आती थी। एक बार महात्मा गांधी की पुस्तक लेकर आईं,
जिसे पढ़कर भारत आने का मन हुआ। लोगों के सहयोग से 20 साल की उम्र में पहली
बार भारत आया। दूसरी बार 22 वर्ष की उम्र में भारत आया। उन्होंने बताया कि
इसके बाद चित्रकूट में मानस महाआरती त्यागी महाराज के सानिध्य में आया और
उनसे दीक्षा ले ली।
अमेरिका में रामलीला करती है #स्टार्नफील्ड की टीम
25
साल पहले विश्वविद्यालय में अचानक #महर्षि वाल्मीकि का चित्र दिखा, इसमें
उन्हें अपने पिता का चेहरा दिखार्इ दिया। उनके बारे में जानकारी एकत्रित
की और #वाल्मीकि रामायण पढा तभी से रामायण को विस्तृत जानने की प्रेरणा
निर्माण हुर्इ। यह बात विश्व रामायण परिषद में शामिल होने आए #महर्षि
विश्वविद्यालय ऑफ मैनेजमेंट पेयरफिल्ड, लोवा यूएसए के प्रोफसर #माइकल
स्टार्नफिल्ड ने कही। उन्होंने बताया कि उनकी 400 लोगों की एक टीम है,
जिसमें बच्चे, युवा व बुजुर्ग शामिल हैं, जो #वाल्मीकि रामायण पर आधारित
रामलीला करते हैं। उनकी ड्रेस #भारतीय रामलीला से मिलती जुलती है।
थाईलैंड की प्राथमिक शिक्षा में शामिल है #रामायण
बैंकाक
की #सिल्पाकॉर्न विश्वविद्यालय के एसोसिएटेड प्राध्यापक #बूंमरूग खाम-ए ने
बताया कि थाईलैंड में रामायण,लिटरेचर की तरह स्कूल और कॉलेजों के
पाठ्यक्रम में शामिल है। विश्वविद्यालय के खोन (नाट्य) विभाग के छात्र सबसे
अधिक #रामलीला को पसंद करते हैं। थाईलैंड में रामायण को #रामाकेन और
#रामाकृति बोलते हैं। जो वाल्मीकि रामायण से मिलती जुलती है, किंतु इसमें
थाई कल्चर का समावेश है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय के अनेक
विद्यार्थी #रामायण पर #पीएचडी कर रहे हैं। इसमें से कुछ वर्ल्ड रामायण
कांफ्रेंस में शामिल होने जबलपुर आए हैं।
थाईलैंड की रामायण में हनुमानजी ब्रह्मचारी नहीं
प्राध्यापक
बंमरूग खाम-ए ने बताया कि भारत की वाल्मीकि रामायण में हनुमान जी को
ब्रह्मचारी बताया गया है। जबकि थाईलैंड की रामायण (रामाकेन) में हनुमानजी
की पत्नी और पुत्र का उल्लेख है।
हम हिंदी प्रेमी हैं
थाईलैंड
से आईं चारिया #धर्माबून हिंदी प्रेमी हैं। पढ़ाई के दौरान राम के चरित्र
से प्रभावित होकर रामायण पर पीएचडी कर रही हैं। उन्होंने अपने इस प्रेम को
टीशर्ट पर ‘हम हिंदी प्रेमी हैं’ के रूप में भी लिख रखा है। वर्ल्ड रामायण
कांफ्रेंस में शामिल होने उनके साथ #सुपापोर्न पलाइलेक, #चोनलाफाट्सोर्न
बिनिब्राहिम और #पिबुल नकवानीच आए हैं। सभी #शिल्पाकर्न विश्वविद्यालय से
#रामायण में #पीएचडी कर रहे हैं। पीएचडी करने वाले विद्यार्थी रामायण पर
आधारित पैंटिंग और रामलीला भी करते हैं।
भारत के मंदिरों का इतिहास खोज निकाला
अमेरिका
के #डॉ. स्टीफन कनाप ने बताया कि उन्हें हर विषय की गहराई में जाना अच्छा
लगता है। 1973-74 में रामायण के बारे में जानकारी मिली, जिसे पढ़ा और इसकी
खोज में भारत आया। यहां रामायण के संबंध में काफी खोज की। अनेक किताबें लिख
चुके #डॉ. स्टीफन ने बताया कि उन्होंने भारत के मंदिरों के इतिहास की खोज
कर उन पर अनेक पुस्तकें लिखी हैं।
हिन्दू
पुराणों और शास्त्रों में इतना गूढ़ रहस्य है कि अगर मनुष्य उसको ठीक से
पढ़कर समझे तो सुखी स्वस्थ और सम्मानित  जीवन जी सकता है । इस लोक में तो
सुखी रह सकता और परलोक में भी सुखी रह सकता है ।
जिसके
जीवन में #हिन्दू संस्कृति का ज्ञान नही है उसका जीवन तो धोबी के कुत्ते
जैसा है न घर का न घाट का, इस लोक में भी दुःखी चिंतित और परेशान रहता है
और परलोक में भी नर्क में जाकर दुःख ही पाता है ।
अतः बुद्धिमान व्यक्ति को समय रहते भारतीय #संस्कृति के अनुसार अपने जीवन को ढाल लेना चाहिये ।
Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

वातावरण प्रदूषण मुक्त कैसे हो?

🚩 *वातावरण प्रदूषण मुक्त कैसे हो?*
विश्व पर्यावरण दिवस : 5 जून
🚩पर्यावरण
प्रदूषण की समस्या पर सन् 1972 में #संयुक्त राष्ट्र संघ ने स्टॉक होम
(स्वीडन) में विश्व भर के देशों का पहला पर्यावरण सम्मेलन आयोजित किया।
इसमें 119 देशों ने भाग लिया और पहली बार एक ही पृथ्वी का सिद्धांत मान्य
किया।
Azaad bharat – World_Environment_Day
🚩इसी
सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) का जन्म हुआ तथा
प्रति वर्ष 5 जून को #पर्यावरण दिवस आयोजित करके नागरिकों को प्रदूषण की
समस्या से अवगत कराने का निश्चय किया गया। तथा इसका मुख्य उद्देश्य
पर्यावरण के प्रति जागरूकता लाते हुए #राजनीतिक चेतना जागृत करना और आम
जनता को प्रेरित करना था।
🚩वन
हमारी #धरती की #भूमि के #द्रव्यमान का एक तिहाई हिस्सा आच्छादित करते हैं
तथा अपने महत्वपूर्ण कार्यों तथा सेवाओं द्वारा हमारे ग्रह (पृथ्वी) पर
संभावनाओं को जीवित रखते है। वास्तव में 1.6 अरब लोग अपनी आजीविका के लिए
वनों पर निर्भर हैं।
स्वास्थ्य एवं #पर्यावरण रक्षक प्रकृति के अनमोल उपहार !!
🚩#अन्न,
जल और वायु हमारे जीवन के आधार हैं । सामान्य #मनुष्य प्रतिदिन औसतन 1
किलो अन्न और 2 किलो जल लेता है परंतु इनके साथ वह करीब 10,000 लीटर (12 से
13.5 किलो) #वायु भी लेता है । इसलिए #स्वास्थ्य की सुरक्षा हेतु शुद्ध
वायु अत्यंत आवश्यक है ।
🚩#प्रदूषणयुक्त,
ऋण-आयनों की कमी वाली एवं ओजोन रहित हवा से रोग प्रतिकारक शक्ति का ह्रास
होता है व कई प्रकार की शारीरिक-मानसिक #बीमारियाँ होती हैं ।
🚩#प्रदूषण मुक्त कैसे हो?
🚩#पीपल
का वृक्ष दमानाशक, हृदयपोषक, ऋण-आयनों का खजाना, रोगनाशक, आह्लाद व मानसिक
प्रसन्नता का खजाना  तथा रोगप्रतिकारक शक्ति बढानेवाला है । बुद्धू
बालकों तथा हताश-निराश लोगों को भी #पीपल के स्पर्श एवं उसकी छाया में
बैठने से अमिट #स्वास्थ्य-लाभ व पुण्य-लाभ होता है । #पीपल की जितनी महिमा
गायें, कम है । #पर्यावरण की शुद्धि के लिए जनता-जनार्दन एवं #सरकार को
बबूल, नीलगिरी (यूकेलिप्टस) आदि जीवनशक्ति का ह्रास करनेवाले वृक्ष सड़कों
एवं अन्य स्थानों से #हटाने चाहिए और #पीपल, आँवला, तुलसी, वटवृक्ष व नीम
के वृक्ष दिल खोल के #लगाने चाहिए ।
🚩इससे
#अरबों रुपयों की दवाइयों का खर्च बच जायेगा । ये #वृक्ष शुद्ध वायु के
द्वारा प्राणिमात्र को एक प्रकार का उत्तम भोजन प्रदान करते हैं ।
🚩#पीपल
: यह धुएँ तथा धूलि के दोषों को वातावरण से सोखकर #पर्यावरण की रक्षा
करनेवाला एक महत्त्वपूर्ण वृक्ष है । यह #चौबीसों घंटे #ऑक्सीजन उत्सर्जित
करता है । इसके नित्य स्पर्श से रोग-प्रतिरोधक क्षमता की वृद्धि,
मनःशुद्धि, आलस्य में कमी, ग्रहपीड़ा का शमन, शरीर के आभामंडल की शुद्धि और
विचारधारा में धनात्मक परिवर्तन होता है । बालकों के लिए #पीपल का स्पर्श
बुद्धिवर्धक है । #रविवार को पीपल का स्पर्श न करें ।
🚩#आँवला
: #आँवले का वृक्ष #भगवान #विष्णु को प्रिय है । इसके #स्मरणमात्र से
#गोदान का फल प्राप्त होता है । इसके दर्शन से दुगना और फल खाने से तिगुना
पुण्य होता है । #आँवले के वृक्ष का #पूजन कामनापूर्ति में सहायक है ।
#कार्तिक में आँवले के वन में भगवान श्रीहरि की पूजा तथा आँवले की छाया में
भोजन पापनाशक है । #आँवले के वृक्षों से वातावरण में ऋणायनों की वृद्धि
होती है तथा शरीर में शक्ति का, धनात्मक ऊर्जा का संचार होता है ।
🚩#आँवले
से नित्य स्नान पुण्यमय माना जाता है और #लक्ष्मीप्राप्ति में सहायक है ।
जिस #घर में सदा #आँवला रखा रहता है वहाँ भूत, प्रेत और राक्षस नहीं जाते ।
🚩#तुलसी
: #प्रदूषित #वायु के #शुद्धीकरण में #तुलसी का #योगदान सर्वाधिक है ।
#तुलसी का पौधा उच्छ्वास में स्फूर्तिप्रद ओजोन वायु छोडता है, जिसमें
#ऑक्सीजन के दो के स्थान पर तीन परमाणु होते हैं । #ओजोन वायु वातावरण के
बैक्टीरिया, वायरस, फंगस आदि को नष्ट करके #ऑक्सीजन में रूपांतरित हो जाती
है । #तुलसी उत्तम प्रदूषणनाशक है । #फ्रेंच डॉ. विक्टर रेसीन कहते हैं :
‘#तुलसी एक अद्भुत औषधि है । यह रक्तचाप व #पाचनक्रिया का नियमन तथा रक्त
की वृद्धि करती है ।
🚩#वटवृक्ष
: यह #वैज्ञानिक दृष्टि से #पृथ्वी में #जल की मात्रा का स्थिरीकरण
करनेवाला एकमात्र #वृक्ष है । यह भूमिक्षरण को रोकता है । इस वृक्ष के
समस्त भाग #औषधि का कार्य करते हैं । यह #स्मरणशक्ति व एकाग्रता की वृद्धि
करता है । इसमें देवों का वास माना जाता है । इसकी छाया में #साधना करना
बहुत लाभदायी है । #वातावरण-शुद्धि में सहायक हवन के लिए वट और पीपल की
समिधा का वैज्ञानिक महत्त्व है ।
🚩#नीम
: #नीम की #शीतल छाया कितनी सुखद और तृप्तिकर होती है, इसका अनुभव सभीको
होगा । #नीम में ऐसी #कीटाणुनाशक शक्ति मौजूद है कि यदि #नियमित #नीम की
छाया में दिन के समय विश्राम किया जाय तो सहसा कोई #रोग होने की सम्भावना
ही नहीं रहती ।
🚩#नीम
के अंग-प्रत्यंग (पत्तियाँ, फूल, फल, छाल, लकडी) उपयोगी और औषधियुक्त होते
हैं । इसकी कोंपलों और पकी हुई पत्तियों में #प्रोटीन, कैल्शियम, लौह और
विटामिन ‘ए पर्याप्त मात्रा में पाये जाते हैं ।
🚩#नोट
: #नीलगिरी के वृक्ष भूल से भी न लगायें, ये जमीन को बंजर बना देते हैं ।
जिस #भूमि पर ये लगाये जाते हैं उसकी शुद्धि 12 वर्ष बाद होती है, ऐसा माना
जाता है । इसकी #शाखाओं पर ज्यादातर पक्षी घोंसला नहीं बनाते, इसके मूल
में प्रायः कोई प्राणी बिल नहीं बनाते, यह इतना हानिकारक, जीवन-विघातक
वृक्ष है।
 🚩
हे समझदार मनुष्यो ! पक्षी एवं प्राणियों जितनी अक्ल तो हमें रखनी चाहिए ।
हानिकर वृक्ष हटाओ और तुलसी, पीपल, नीम, वटवृक्ष, आँवला आदि लगाओ ।
🚩#पूज्य
#बापू जी कहते हैं कि ये #वृक्ष लगाने से आपके द्वारा प्राणिमात्र की बड़ी
सेवा होगी । यह लेख पढने के बाद #सरकार में अमलदारों व अधिकारियों को सूचित
करना भी एक सेवा होगी । खुद #वृक्ष लगाना और दूसरों को प्रेरित करना भी एक
#सेवा होगी ।
🚩 (सोस्त्र : संत श्री आसारामजी आश्रम से प्रकाशित ऋषि प्रसाद अगस्त 2009 )
🚩विश्व पर्यावरण दिवस पर ‘इतना’ तो हम कर ही सकते हैं ।
🚩#सरकार
जितने भी नियम-कानून लागू करें उसके साथ-साथ #जनता की जागरूकता से ही
#पर्यावरण की रक्षा संभव हो सकेगी । इसके लिए कुछ अत्यंत सामान्य बातों को
जीवन में दृढ़ता-पूर्वक अपनाना आवश्यक है।
🚩जैसे –
🚩1.
प्रत्येक व्यक्ति प्रति वर्ष यादगार अवसरों (#जन्मदिन, #विवाह की
#वर्षगांठ) पर अपने घर, मंदिर या ऐसे स्थल पर फलदार अथवा औषधीय #पौधा-रोपण
करें, जहां उसकी देखभाल हो सके।
 🚩2.#उपहार में भी सबको #पौधे दें।
🚩3.शिक्षा
संस्थानों व #कार्यालयों में विद्यार्थी, #शिक्षक, अधिकारी और कर्मचारीगण
राष्ट्रीय पर्व तथा महत्त्वपूर्ण तिथियों पर पौधे रोपें।
🚩4.विद्यार्थी एक #संस्था में जितने वर्ष अध्ययन करते हैं, उतने पौधे लगाएं और जीवित भी रखें।
🚩5.प्रत्येक #गांव/शहर में हर मुहल्ले व कॉलोनी में #पर्यावरण संरक्षण समिति बनाई जाए।
🚩6.निजी वाहनों का #उपयोग कम से कम किया जाए।
🚩7.#रेडियो-टेलीविजन की आवाज धीमी रखें। सदैव धीमे स्वर में बात करें। घर में पार्टी हो तब भी शोर न होने दें।
🚩8.जल व्यर्थ न बहाएं। गाड़ी धोने या पौधों को पानी देने में #इस्तेमाल किये गए पानी का प्रयोग करें।
 🚩9.अनावश्यक #बिजली की बत्ती जलती न छोडें। पोलोथिन का उपयोग न करें। कचरा कूड़ेदान में ही डालें।
🚩10.अपना #मकान बनवा रहे हों तो उसमें वर्षा के जल-संरक्षण और उद्यान के लिए जगह अवश्य रखें।
🚩ऐसी
अनेक छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देकर भी पर्यावरण की रक्षा की जा सकती है।
ये आपके कई अनावश्यक खर्चों में तो कमी लाएंगे साथ ही पर्यावरण के प्रति
अपनी ज़िम्मेदारी निभाने की आत्मसंतुष्टि भी देंगे।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩