भारत का मीडिया बन गया है वेश्या का कोठा : पत्रकार देवेंद्र गांधी

देवेंद्र गांधी, Devendra Gandhi

अक्टूबर 5, 2017 सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है पत्रकार देवेंद्र गांधी का उसमें उन्होंने मीडिया को पूरा नंगा कर दिया है । उन्होंने बताया – मीडिया का फंडिग कहाँ से आता है और कौन उसको हैंडल … Continue reading

बलात्कारी मौलवी को आठ साल की सजा, मीडिया में छाया मातम, साधी चुप्पी

eight years imprisonment Sentence to maulvi for raping

सितम्बर 22, 2017  मीडिया हिन्दू साधु-संतों पर कोलाहल करती रही, वहाँ बलात्कारी मौलवी को आठ साल की सुनाई सजा, अगर यही मुद्दा किसी हिन्दू साधु-संत का होता तो मीडिया 24 घण्टे चिल्ला-चिल्लाकर खबरे दिखाती और डिबेट पर डिबेट करती लेकिन … Continue reading

भारत में चलने वाली अधिकतर मीडिया के मालिक विदेशों में हैं, इसलिए हिन्दुत्व विरोधी हैं

Anti Hindu Paid Media

भारत में चलने वाली अधिकतर मीडिया के मालिक विदेशों में हैं, इसलिए हिन्दुत्व विरोधी हैं सितम्बर 2, 2017 आपने अधिकतर मीडिया में देखा होगा कि हिन्दू देवी देवता हो या #हिन्दू साधु-संत  हो या #हिन्दू त्यौहार हो या #हिन्दू संगठन … Continue reading

राम रहीम को बुला लिया, इमाम बुखारी को क्यों नही ? :साक्षी महाराज

SADHVI PRAGYA

राम रहीम को बुला लिया, इमाम बुखारी को क्यों नही बुलाती कोर्ट, यह षडयंत्र है: साक्षी महाराज उन्नाव. बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सपोर्ट करते हुए कहा- ”एक आदमी ने कंप्लेन की है … Continue reading

कवि: हिन्दू संस्कृति को दुश्मनों के हाथों से बचाना ही होगा

conversion media love jihad

अगस्त 23, 2017 धर्मान्तरण, लव जिहाद, मीडिया और पाश्चात्य संस्कृति द्वारा हिन्दू संस्कृति एवं हिन्दू धर्म रक्षक संतों पर हो रहे कुठाराघात को लेकर एक कवि ने बहुत ही सुंदर कविता बनाई है । आइये पढ़ते है क्या लिखा है … Continue reading

टी राजा सिंह द्वारा राम मंदिर बनाने और गौरक्षा के लिए बोलने पर मीडिया में आया भूचाल..

टी राजा सिंह द्वारा राम मंदिर बनाने और गौरक्षा के लिए बोलने पर मीडिया में आया भूचाल..
हिंदुस्तानियों
को एक बात गौर करने जैसी है कि जब भी देश के हित के लिए,कोई भी #हिंदुत्व
का कार्य करने आगे बढ़ते हैं तब मीडिया उनके पीछे पड़ जाती है और उनको किसी
भी तरह गिराने का काम करती है ।
आपने
देखा होगा कि जब से #उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार आने वाली
थी तब से लेकर आज तक कुछ मीडिया और खासकर #बीबीसी न्यूज कैसी मंगढ़तन बातें
योगी जी के खिलाफ लिख रही है।
T Raja Singh – Media Hindu
क्या भारत में शान्ति लाना नही चाहती बीबीसी..? क्यों इतना घबरा गई है #हिंदुत्वनिष्ठों से ???
अगर
आप बीबीसी न्यूज को थोड़ा ध्यान देकर देखेंगे और पढ़ेंगे तो आपको पता चलेगा
कि ये पूरा #मुस्लिम समुदाय के पक्ष में है और हिंदुत्वनिष्ठों के खिलाफ
खड़ा हैं ।
जब-जब मुस्लिम
समुदाय के कुछ असामाजिक लोगों द्वारा आतंक फैलाया गया तब तब बीबीसी न्यूज
मौन रहा पर जैसे ही देश की शांति के लिए हिंदुत्वनिष्ठ उनको जवाब देते हैं
तब वो उनके खिलाफ बोलना शुरू कर देता है ।
भारत
में अल्पसंख्यक #मुस्लिमों की चिंता करने वाले बीबीसी न्यूज ने पाकिस्तान
और बंग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहा अत्याचार पर क्यों चुप्पी साध ली है !!
जिस भारत ने विश्व को शांति और भाईचारे का पाठ पढ़ाया, वहां #अशान्ति का वातावरण बनाने में मीडिया का बड़ा हाथ है ।
क्यों योगी जी सत्ता पर आते ही मीडिया की आँख की किकरी बन गए ?
तेलंगाना,
भारतीय जनता पार्टी विधायक टी राजा सिंह ने भी (भारत लुटेरे #बाबर ने
रामजी का मंदिर तोड़कर मस्जिद बनवाया था ) जब फिर से #राम मंदिर बनाने के
लिए आवाज उठायी तो मीडिया को परेशानी क्यों हुई ?
टी.
राजा सिंह ने #बीबीसी न्यूज के सवांदाता को करारा जवाब देते हुए कहा कि,
“राम मंदिर बनाना हर हिंदू का संकल्प है और मेरा भी संकल्प है । #हिंदू हो
या मुस्लिम सिख हो या ईसाई अगर कोई भी राम मंदिर के बीच में आता है तो हम
हमारे #प्राण दे भी सकते हैं और हम अगले के प्राण ले भी सकते हैं” ।
उन्होंने
आगे कहा कि “अगर कोई बात से नहीं मानता है तो हम हर प्रकार से तैयार हैं ।
बस हमारा लक्ष्य #अयोध्या में राम मंदिर बनाना है । उसके लिए हम हर तरह से
तैयार हैं । “विधायक से पहले मैं एक #हिंदू हूँ । मैं अपना कर्तव्य निभा
रहा हूँ ।”
टी राजा सिंह ने 1999 में #श्रीराम युवा सेना व गोरक्षा दल का निर्माण किया और तभी से गौहत्या का विरोध शुरु किया ।
गोरक्षा
के मुद्दे पर टी राजा $सिंह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन
भागवत के हॉल में कहते हैं कि “मैं मोहन #भागवत के उस बयान का समर्थन करता
हूँ कि जो गोरक्षा के लिए है।
वो किसी के ऊपर हमला न
करें । लेकिन जब हम गोरक्षा को जाते हैं । #ट्रक पकड़ते हैं, तब अगर उनकी
ओर से हमला होता है तो सेल्फ डिफेंस तो करना होगा । नहीं तो हम मारे जाएंगे
।”
गाय का महत्व अगर कोई
व्यक्ति जान लेता है तो गाय की हत्या पर वो आपा खो बैठता है । उन्होंने कहा
कि,” #गाय से बढ़कर हमारे लिए कुछ नहीं है”
#गौमाता को चराने स्वयं भगवान श्री कृष्ण जाते थे उनको बचाने के लिए अगर गौ रक्षक कुछ भी करें तो कोई गलत नही हो सकता ।
अब तो उत्तरप्रदेश में शिया समुदाय के मुस्लिमों ने गोहत्या रोकने के लिए  ‘शिया गो-रक्षा दल’ भी बना लिया है ।
गुजरात
के #मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने भी कहा है कि “गाय हमारी मां है और यह
हमारे लिए विश्वास की बात है, हमारी सरकार को ऐसे लोगों से कोई सहानुभूति
नहीं है जिनको गायों के प्रति कोई दया नहीं है।”
विजय
रूपानी ने आगे कहा कि राज्य सरकार ने गाय और उसकी संतान को मारने से रोकने
के लिए सख्त कानून बनाए हैं। गाय में प्रजनन के माध्यम से #गांवों में
कमाई का एक तरीका भी है। हम चाहते हैं कि गुजरात में एक बार फिर घी और दूध
की नदियों बहें।
गौमाता हमारे लिए कितनी उपयोगी है जानने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें ।
गाय
आर्थिक रूप से तो समृद्धि देने वाली है ही साथ-साथ में गाय का होना भी
वातावरण में शुद्धि लाता है एवं गाय माता का #दूध, #दही, #छाछ, #मक्खन,
#घी, #मूत्र एवं #गोबर मनुष्य के लिए वरदानस्वरूप है इसके उपयोग से मनुष्य
स्वस्थ्य और सुखी जीवन जी सकता है ।
अतः गौ माता की रक्षा करना हितकारी है और गौ हत्या करना विनाश का संकेत है।

भगवान महावीर स्वामी जी का दिव्य जीवन चरित्र

भगवान महावीर स्वामी जी का दिव्य जीवन चरित्र
जयंती 9 अप्रैल 2017

 

Azaad Bharat – Mahavir Jayanti
महावीर स्वामी का जन्म करीब ढाई हजार साल पहले हुआ था । ईसा से 599 वर्ष पहले वैशाली गणतंत्र के क्षत्रिय कुण्डलपुर में पिता सिद्धार्थ और माता त्रिशला के यहाँ चैत्र शुक्ल तेरस को वर्धमान का जन्म हुआ । यही #वर्धमान बाद में इस काल के अंतिम #तीर्थंकर #महावीर_स्वामी बने ।

 

जैन ग्रंथों के अनुसार, 23वें #तीर्थंकर #पार्श्वनाथ जी के निर्वाण (मोक्ष) प्राप्त हो जाने के 278 वर्ष बाद इनका जन्म हुआ था । महावीर को ‘वीर’, ‘#अतिवीर’ और ‘#सन्मति’ भी कहा जाता है।

 

तीर्थंकर महावीर स्वामी #अहिंसा के #मूर्तिमान प्रतीक थे । उनका #जीवन #त्याग और #तपस्या से ओतप्रोत था । उन्होंने एक #लंगोटी तक का परिग्रह नहीं रखा । हिंसा, पशुबलि, जात-पात का भेद-भाव जिस युग में बढ़ गया, उसी युग में भगवान महावीर का जन्म हुआ । उन्होंने दुनिया को #सत्य, अहिंसा का पाठ पढ़ाया ।

 

महावीर जी ने अपने उपदेशों और प्रवचनों के माध्यम से दुनिया को सही राह दिखाकर मार्गदर्शन किया ।

 

भगवान महावीर, #ऋषभदेव से प्रारंभ हुई वर्तमान चौबीसी के अंतिम तीर्थंकर थे।
प्रभु महावीर प्रारंभिक तीस वर्ष राजसी वैभव एवं विलास के दलदल में ‘कमल’ के समान रहे ।

 

मध्य के बारह वर्ष घनघोर जंगल में मंगल साधना और आत्म जागृति की आराधना की जिसमें दुष्टों ने इन्हें कई यातनाएं दी । कान में खीले ठोके फिर भी महावीर #साधना में लगे रहे । बाद के तीस वर्ष उन्होंने न केवल जैन जगत या मानव समुदाय के लिए अपितु प्राणी मात्र के कल्याण एवं मुक्ति मार्ग की प्रशस्ति में व्यतीत किये ।

 

जनकल्याण हेतु उन्होंने चार तीर्थों #साधु-साध्वी-श्रावक-श्राविका की रचना की। इन सर्वोदयी तीर्थों में क्षेत्र, काल, समय या जाति की सीमाएँ नहीं थी । भगवान महावीर का आत्मधर्म जगत की प्रत्येक आत्मा के लिए समान था। दुनिया की सभी आत्मा एक-सी हैं इसलिए हम दूसरों के प्रति वही विचार एवं व्यवहार रखें जो हमें स्वयं के लिए पसंद हो। यही महावीर का ‘#जियो और जीने दो’ का सिद्धांत है।

 

इतने वर्षों के बाद आज भी भगवान महावीर का नाम स्मरण बड़ी #श्रद्धा और #भक्ति से लिया जाता है, इसका मूल कारण यह है कि महावीर जी ने इस जगत को न केवल #मुक्ति का संदेश दिया, अपितु मुक्ति की सरल और सच्ची राह भी बताई। भगवान महावीर ने #आत्मिक और शाश्वत सुख की प्राप्ति हेतु पाँच सिद्धांत हमें बताए : सत्य, अहिंसा, अपरिग्रह, अचौर्य और ब्रह्मचर्य।

 

वर्तमान में अशांत, आतंकी, भ्रष्ट और हिंसक वातावरण में महावीर जी की अहिंसा ही शांति प्रदान कर सकती है । महावीर जी की अहिंसा केवल सीधे वध को ही हिंसा नहीं मानती है, अपितु मन में किसी के प्रति बुरा विचार भी हिंसा है । जब मानव का मन ही साफ नहीं होगा तो अहिंसा को स्थान ही कहाँ…???

 

वर्तमान युग में प्रचलित नारा ‘समाजवाद’ तब तक सार्थक नहीं होगा जब तक आर्थिक विषमता रहेगी । एक ओर अथाह पैसा, दूसरी ओर अभाव ।

 

इस असमानता की खाई को केवल भगवान महावीर का ‘अपरिग्रह’ का सिद्धांत ही भर सकता है । अपरिग्रह का सिद्धांत कम साधनों में अधिक संतुष्टि पर बल देता है । यह आवश्यकता से ज्यादा रखने की सहमति नहीं देता है । इसलिए सबको मिलेगा और भरपूर मिलेगा ।

 

जब अचौर्य की भावना का प्रचार-प्रसार और पालन होगा तो चोरी, लूटमार का भय ही नहीं होगा । सारे जगत में मानसिक और आर्थिक शांति स्थापित होगी । चरित्र और संस्कार के अभाव में सरल, सादगीपूर्ण एवं गरिमामय जीवन जीना दूभर होगा। भगवान महावीर ने हमें अमृत कलश ही नहीं, उसके रसपान का मार्ग भी बताया है ।

 

सत्य के बारे में भगवान महावीर स्वामी कहते हैं…

 

हे पुरुष ! तू सत्य को ही सच्चा तत्व समझ । जो #बुद्धिमान सत्य की ही आज्ञा में रहता है, वह मृत्यु को तैरकर पार कर जाता है।

 

अहिंसा – इस लोक में जितने भी त्रस जीव (एक, दो, तीन, चार और पाँच इंद्रिय वाले जीव) आदि है उनकी हिंसा मत करों , उनको उनके पथ पर जाने से न रोको । उनके प्रति अपने मन में दया का भाव रखो । उनकी रक्षा करो । यही अहिंसा का संदेश भगवान महावीर अपने उपदेशों से हमें देते हैं ।

 

अपरिग्रह – परिग्रह पर भगवान महावीर कहते हैं जो आदमी खुद सजीव या निर्जीव चीजों का संग्रह करता है, दूसरों से ऐसा संग्रह कराता है या दूसरों को ऐसा संग्रह करने की सम्मति देता है, उसको दुःखों से कभी छुटकारा नहीं मिल सका । यही संदेश अपरिग्रह के माध्यम से भगवान महावीर दुनिया को देना चाहते हैं ।

 

ब्रह्मचर्य – महावीर स्वामी ब्रह्मचर्य के बारे में अपने बहुत ही अमूल्य उपदेश देते हैं कि ब्रह्मचर्य उत्तम तपस्या, नियम, ज्ञान, दर्शन, चरित्र, संयम और विनय की जड़ है । तपस्या में #ब्रह्मचर्य श्रेष्ठ तपस्या है । जो पुरुष स्त्रियों से संबंध नहीं रखते, वे मोक्ष मार्ग की ओर बढ़ते हैं ।

 

क्षमा – क्षमा के बारे में भगवान महावीर कहते हैं- ‘मैं सब जीवों से क्षमा चाहता हूँ । जगत के सभी जीवों के प्रति मेरा मैत्रीभाव है । मेरा किसी से वैर नहीं है । मैं सच्चे हृदय से धर्म में स्थिर हुआ हूँ । सब जीवों से मैं सारे अपराधों की क्षमा माँगता हूँ । सब जीवों ने मेरे प्रति जो अपराध किए हैं, उन्हें मैं क्षमा करता हूँ ।’

 

वे यह भी कहते हैं ‘मैंने अपने मन में जिन-जिन पाप की वृत्तियों का संकल्प किया हो, वचन से जो-जो पाप वृत्तियाँ प्रकट की हों और शरीर से जो-जो पापवृत्तियाँ की हों, मेरी वे सभी पापवृत्तियाँ विफल हों
। मेरे वे सारे पाप मिथ्या हों।’

 

धर्म – #धर्म सबसे उत्तम मंगल है । अहिंसा, संयम और तप ही धर्म है । महावीरजी कहते हैं जो धर्मात्मा है, जिसके मन में सदा धर्म रहता है, उसे देवता भी नमस्कार करते हैं ।

 

भगवान महावीर ने अपने प्रवचनों में धर्म, सत्य, अहिंसा, ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह, क्षमा पर सबसे अधिक जोर दिया । त्याग और संयम, प्रेम और करुणा, शील और सदाचार ही उनके प्रवचनों का सार था । भगवान महावीर ने चतुर्विध संघ की स्थापना की । देश के भिन्न-भिन्न भागों में घूमकर भगवान महावीर ने अपना पवित्र संदेश फैलाया ।

 

जैसे हर संत के जीवन में देखा जाता है, वैसे महावीर स्वामी के समय भी जहाँ उनसे लाभान्वित होनेवाले लोग थे, वहीं समाजकंटक निंदक भी थे ।

 

उनमें से पुरंदर नाम का निंदक बड़े ही क्रूर स्वभाव का था । वह तो महावीरजी के मानो पीछे ही पड़ गया था । उसने कई बार महावीर स्वामी को सताया, उनका अपमान किया पर संत ने उसे माफ कर दिया । एक दिन महावीर स्वामी पेड़ के नीचे ध्यानस्थ बैठे थे । तभी घूमते हुए पुरंदर भी वहाँ पहुँच गया । वह महावीरजी को ध्यानस्थ देख आग-बबूला होकर बड़बड़ाने लगा : ‘‘अभी इनका ढोंग उतारता हूँ ।

 

अभी मजा चखाता हूँ…’’ और आवेश में आकर उसने एक लकड़ी ली और उनके कान में खोंप दी । कान से रक्त की धार बह चली लेकिन महावीरजी के चेहरे पर पीड़ा का कोई चिह्न न देखकर वह और चिढ़ गया, और कष्ट देने लगा । इतना सब होने पर भी महावीरजी किसी प्रकार की कोई पीड़ा को व्यक्त किये बिना शांत ही बैठे रहे । परंतु कुछ समय बाद अचानक उनका ध्यान टूटा, उन्होंने आँख खोलकर देखा तो सामने पुरंदर खड़ा है । उनकी आँखों से आँसू झरने लगे । पुरंदर ने पूछा : ‘‘क्या पीड़ा के कारण रो रहे हो ?’’
महावीर स्वामी : ‘‘नहीं, शरीर की पीड़ा के कारण नहीं ।’’

 

पुरंदर : ‘‘तो किस कारण रो रहे हो ?’’
‘‘मेरे मन में यह व्यथा हो रही है कि मैं निर्दोष हूँ फिर भी तुमने मुझे सताया है तो तुम्हें कितना कष्ट सहना पड़ेगा ! कैसी भयंकर पीड़ा सहनी पड़ेगी ! तुम्हारी उस पीड़ा की कल्पना करके मुझे दुःख हो रहा है ।’’
यह सुन पुरंदर मूक हो गया और पीड़ा की कल्पना से सिहर उठा ।

 

पुरंदर की नाईं गौशालक नामक एक कृतघ्न गद्दार ने भी महावीर स्वामी को बहुत सताया था । महावीरजी के 500 शिष्यों को उनके खिलाफ खड़ा करने का उसका षड्यंत्र भी सफल हो गया था । उस दुष्ट ने महावीर स्वामीजी को जान से मारने तक का प्रयत्न किया लेकिन जो जैसा बोता है उसे वैसा ही मिलता है । धोखेबाज लोगों की जो गति होती है, गौशालक का भी वही हाल हुआ ।

 

गौशालक के साथ पाँच सौ निंदक मिल गये  । वे कौन-से नरक में सड़ते होंगे पता नहीं है लेकिन महावीर को तो लाखों-करोड़ो लोग आज भी मानते हैं  ।

 

भगवान महावीर ने ईसापूर्व 527, 72 वर्ष की आयु में बिहार के पावापुरी (राजगीर) में कार्तिक कृष्ण अमावस्या को निर्वाण (मोक्ष) प्राप्त किया ।

 

समाज का दुर्भाग्य रहा है कि जब महापुरुष हयात होते हैं तब उन पर आरोप – प्रत्यारोप लगाते हैं ।उनका आदर नही करते,उनके जाने के बाद अनेकों मंदिर बनवाकर उनकी पूजा करते हैं ।

 

संत निंदको व कुप्रचारको ! अब भी समय है, कर्म करने में सावधान हो जाओ । अन्यथा जब प्रकृति तुम्हारे कुकर्मों की तुम्हें सजा देगी उस समय तुम्हारी वेदना पर रोनेवाला भी कोई न मिलेगा ।

क्या आपको पता है कौन है जाकिर नाईक..???

🚩क्या आपको पता है कौन है #जाकिर नाईक..???
💥कैसे बना #मुस्लिम युवाओं का चहेता..???
💥देखिये वीडियो👇🏻
🖥https://youtu.be/FOT1sxC_a5o
💥#बांग्लादेश की #राजधानी ढाका #आतंकी हमले में आतंकवादी रोहन इम्तियान जाकिर नाईक का फॉलोवर था।
💥इसलिए मुस्लिम #धर्मगुरु डॉ. जाकिर नाईक विवादों में है। इस्लाम के अलावा अन्य धर्मों की आलोचना नाईक की फितरत है।
💥वह अपने भाषण में #हिंदू देवी-देवताओं को अपमानित कर मुस्लिम युवाओं का दिमाग बदलता है। गीता के श्लोक की गलत व्याख्या कर हिंदुओं को विरोधी बनाता है।
💥#मुस्लिम युवाओं का चहेता बना डॉ जाकिर नाईक कभी दक्षिण मुंबई के भिंडी बाजार की गलियों में एक छोटे से कबाड़खाने जैसे घर में रहता था।
जाकिर नाईक – Zakir Naik – jago hindustani
💥 लेकिन कट्टरवादी सोच के साथ इस्लाम का प्रचार कर उसने इतनी दौलत और शोहरत कमा ली है कि आज वह मुंबई के बेहद पॉश इलाके नेपियंसी रोड़ पर #आलीशान कोठी में रहता है।
💥#डॉ. नाईक पीस टीवी नामक एक #इस्लामी #चैनल का संस्थापक है जिसका अनेक देशों में प्रसारण होता है। 18 अक्तूबर 1965 में जन्मा जाकिर को बचपन में ही कुरान की आयतें कंठस्थ हो गई थी। उसके बाद उसने मेडिकल की पढ़ाई की।
💥अपने पिता #अब्दुल करीम नाईक की मदद से डोंगरी में एक #इस्लामिक #स्कूल की नींव रखी। डॉ. जाकिर के पिता का #महाराष्ट्र के बड़े नेता शरद पवार और पूर्व #मुख्यमंत्री दिवंगत अब्दुल रहमान अंतुले से जान पहचान थी।
💥इसके बल पर जाकिर का इस्लामिक स्कूल चल निकला। उसके बाद उसने कई मदरसे खोले। साल 1991 में इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन की स्थापना कर वह मदरसों में मुस्लिम युवाओं को कट्टरता की ट्रेनिंग देने लगा। इसके वह संस्थापक और अध्यक्ष हैं और उनकी पत्नी #फरहत नाईक फाउंडेशन में #महिलाओं के लिए काम करती हैं।
💥मुंबई के जिस इलाके में उनका फाउंडेशन चलता है वह इलाका #अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का माना है। यह इलाका डोंगरी के नाम से जाना जाता है।
💥 दक्षिण-मध्य मुंबई के डोंगरी में दाऊद के अलावा हाजी मस्तान, करीम लाला, छोटा शकील, अरुण गवली और रमा नाईक जैसे अंडरवर्ल्ड डॉनों का भी इलाका रहा है।

💥जाकिर अपने इस फाउंडेशन के जरिए जहां इस्लामिक #धर्म का प्रचार करता है, वहीं उसके इस #फाउंडेशन के लिए #दुनियाभर से डोनेशन भी आते हैं।

💥 डोनेशन की राशि फाउंडेशन के नाम से डेवलपमेंट क्रेडिट #बैंक में खुले खाते में जमा होती है। यह फाउंडेशन मुस्लिम छात्रों को स्कॉलरशिप देता है और नौकरियां भी दिलाता है। जाकिर इस्लाम पर भाषण देने के साथ कुरान की प्रतियाँ
भी बांटता हैं।
💥जाकिर से ढाका के आतंकी हमले के दो आतंकी ही प्रभावित नहीं हैं बल्कि मुंबई के मालवणी के रहने वाले #आईएस मॉड्यूल अयाज सुल्तान और हैदराबाद के आईएस प्रमुख इब्राहिम यजदानी भी जाकिर से प्रभावित हैं। इनके अलावा मुंबई लोकल बम धमाके का आरोपी राहिल शेख भी जाकिर से प्रभावित था। इब्राहिम ने तो जांच एजेंसी एनआईए को पूछताछ में खुलासा किया कि वह वर्ष 2010 में जाकिर के 10 दिनों के कैंप में बतौर कार्यकर्ता काम किया था।
💥जाकिर कुछ ही दिनों में खुद को इस्लाम का स्कॉलर कहलवाने लगा। इस तरह जाकिर का मजहबी दायरा बढ़ता गया। वह बीते 20 सालों में 30 से ज्यादा देशों में दो हजार से अधिक व्याख्यान दे चुका है।
💥उर्दू के वरिष्ठ पत्रकार #अजीज #एजाज बताते है कि इस्लामिक व्याख्यान देने वाले जाकिर के पास #सऊदी अरब, बहरीन आदि इस्लामिक देशों से बड़ी रकम पहुंचने लगी। उसके बाद उसने इस्लामिक धर्मगुरु के रूप में खुद को स्थापित कर लिया।
💥जाकिर नायक पहली बार विवादों में तब आया था जब उसने ओसामा बिन लादेन को आतंकी कहने से इंकार कर दिया था।जाकिर ने कहा था कि अगर लादेन इस्लाम के विरोधियों से लड़ रहा था तो हम उसके साथ है।
💥 जाकिर ने सभी मुसलमानों को आतंकवादी बनने की नसीहत दी थी। जाकिर नायक ने 2010 में मुंबई में एक #प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि मैं सारे मुस्लिमों से कहता हूँ कि हर मुसलमान को #आतंकी होना चाहिए।
💥पीस #टीवी पर अपने धार्मिक कार्यक्रमों की वजह से जाकिर #बांग्लादेश में भी काफी लोकप्रिय है।
💥नाइक पर दूसरे धर्मों के खिलाफ नफरत फैलाने का आरोप है । कई देश की सरकारों ने जाकिर नाईक के प्रवेश पर रोक लगा रखी है। #ब्रिटेन, #कनाडा लन्दन, और मुस्लिम बहुल देश #मलेशिया में भी बैन किया गया है ।
💥अगर ढाका में जाकिर नाईक के खिलाफ  #मुकदमा दर्ज होता है तो #भारतीय #एजेंसियां उसकी गिरफ्तारी करेगी ।
💥भारत में जाकिर जैसे लोगो को रोकने के लिए जल्द ही कानून बन सकता है।
💥 मौजूदा भारत के कानून की वजह से जाकिर जैसे लोग, जो अपने #भाषण से #आतंकियों को प्रेरित करते हैं , उनपर  बैन लगाने का कोई कानून नहीं है।
💥जो #हिन्दू #देवी-देवताओं का अपमान करता रहता है । #श्रीमद्द भगवतगीता को गलत बोलता है और मुस्लिमो को आतंकवादी बनने की प्रेरणा देता है । ऐसे जाकिर नाइक को जेल भेज देना चाहिए जिससे दुनिया में सुख शाँति बनी रहे ।
💥जागो हिंदुस्तानी!!!
🚩Official Jago hindustani
Visit  👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼
💥Youtube – https://goo.gl/J1kJCp
💥WordPress – https://goo.gl/NAZMBS
💥Blogspot –  http://goo.gl/1L9tH1
🚩🇮🇳🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🇮🇳🚩

एक बार फिर अन्याय निर्दोष संतो के साथ

🚩एक बार फिर अन्याय #निर्दोष #संतो के साथ…!!!
💥#क्लीनचिट के बावजूद भी साध्वी #प्रज्ञा ठाकुर को नहीं मिली जमानत ।
💥2008 के #मालेगांव ब्लास्ट  केस में साध्वी प्रज्ञा सिंह के वकीलों ने मकोका #कोर्ट में 30 मई को जमानत याचिका दायर की थी । जमानत याचिका पर आज(28/6/2016) सुनवाई थी ।
💥 #स्पेशल मकोका कोर्ट ने नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (#एनआईए) से क्लीन चिट मिलने के बावजूद भी उन्हें जमानत देने से इन्कार कर दिया । साध्वी प्रज्ञा जी का परिवार अब हाई कोर्ट में अपील करेंगा ।
💥साध्वी प्रज्ञा के वकीलों ने इससे पहले भी कोर्ट में दो बार जमानत याचिका दायर की थी, लेकिन दोनों बार जमानत याचिका खारिज हो गई । ये तीसरी बार है कि उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी गई ।
💥साध्वी प्रज्ञा जी मालेगांव ब्लास्ट के मामले में पिछले आठ सालों से जेल में हैं । साध्वी जी ने पहले इस मामले की जांच करने वाली एजेंसी #एटीएस पर शोषण का भी आरोप लगाया था ।
💥एटीएस ने इस मामले में दो #चार्जशीट दाख‍िल की थी । एटीएस ने साध्वी जी को ब्लास्ट की साजिश रचने का आरोपी बनाया था।  हालांकि वो इस आरोप से इन्कार कर चुकी हैं और इनको #NIA ने भी क्लीन चिट दे दी है ।
💥साध्वी जी कैंसर से पीड़ित है फिर भी आठ साल से उन्हें बिना सबूत जेल में रखा गया है । साध्वी जी को #ATS वालों ने अश्लीलता वाली वीडियो दिखाई थी, मारपीट की थी और कोई सबूत नही होने के बावजूद भी अमानवीय अत्याचार किया था ।
💥क्या हो रहा है इस देश में…???
💥क्या ऐसा किसी #ईसाई पादरी या मौलवी के साथ कर सकते है..???
💥क्या ये #हिन्दू #साध्वी है इसलिए उन पर इतना अत्याचार किया जा रहा है…???
💥हमारे देश में जब #आतंकवादी पकड़ा जाता है,तो उसके पीछे दिन के लाखों रुपये खर्च करके सुविधा उपलब्ध कराई जाती है । लेकिन बिना सबूत निर्दोष संतों को जेल में रखकर अति कष्टकारी पीड़ा दी जा रही है ।
💥आखिर क्यों..???
💥भारत देश में आरोप सिद्ध होने के बावजूद भी आतंकवादियों को जमानत, #पत्रकारों को जमानत,अभिनेताओं को जमानत, नेताओं को जमानत पर हिन्दू निर्दोष संतो को नही…!!!
💥वाह रे कानून व्यवस्था…!!!
वाह रे भाजपा सरकार…!!!
💥देश में #सत्ता परिवर्तन तो हुआ, पर #आधुनिकतावादियों के
दबाव में #हिन्दुत्वनिष्ठों का किया जा रहा शोषण कब रुकेगा ?
💥हमारे महान भारत देश में , जिसकी गरिमा हमारे संतो से रही है वहाँ हमारे संतो को चाहे वो साध्वी #प्रज्ञा ठाकुर हो या संत #आसारामजी बापू या स्वामी #असीमानन्द जी हो या #नारायण प्रेम साईं जी ।
💥इनको जमानत नही मिल सकती ।
💥क्यों..???
💥क्योंकि इन्होंने देश को #विश्वगुरु के पद तक ले जाने का संकल्प लिया है ।
💥क्योंकि इन्होंने #सनातन #संस्कृति के प्रचार के लिए #ईसाई #धर्मान्तरण पर रोक लगाई है ।
💥क्योंकि इन्होंने #विदेशी #कम्पनियों का बहिष्कार करवाया और लाखों लोगों को व्यसन मुक्त करवाया । करोड़ो लोगो को सन्मार्ग दिखाया ।
💥और सनातन संस्कृति का परचम विश्व में लहराया ।
💥और सबसे बड़ी बात कि ये हिन्दू संत है ।
💥इतने बड़े बड़े अपराध करने के बाद कैसे इन #निर्दोष संतो को जमानत दी जा सकती है…!!!
💥आज अगर हिन्दू न जगा तो वो दिन दूर नही जब सनातन संस्कृति की जगह #ईसाईयत का जयकारा लग रहा होंगा ।
💥आज हिंदुओं को कन्धे से कन्धा मिलाकर हमारे निर्दोष संतो के साथ हो रहे अन्याय के खिलाफ अपनी आवाज बुलन्द करनी ही होंगी ।
💥नही तो एक के बाद एक की बारी..!!!
🙏🏻जय हिन्द!!!
🚩Official Jago hindustani
Visit  👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼
💥Youtube – https://goo.gl/J1kJCp
💥WordPress – https://goo.gl/NAZMBS
💥Blogspot –  http://goo.gl/1L9tH1
🚩🇮🇳🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🇮🇳🚩

श्रीमति सुनन्दा तंवर का आज़ तक को एक खुला पत्र

🚩#’इंडिया टूडे’(आजतक) के नाम #लंदन की एक महिला #श्रीमति सुनन्दा तंवर का एक खुला पत्र
पत्र की लिखित पोस्ट
प्रिय इंडिया टूड
💥मैं ‘इंडिया टूडे’ में संत श्री #आशाराम जी बापू के विषय में प्रकाशित एक लेख को पढ़ कर तुम्हें यह पत्र लिख रही हूँ।
💥यह लेख अत्यंत गरीब व आदिवासियों के हित में काम कर रही उनकी संस्था व #आश्रम को बदनाम करने के उद्देश्य से लिखा गया झूठ का एक पुलिन्दा मात्र है।
💥आपके सीनियर व खोजी(?) पत्रकार ने लिखा है कि #संत श्री आशाराम जी बापू के आश्रम को प्रतिवर्ष 150 से 200 करोड़ रुपये चन्दे के रूप में प्राप्त होते हैं।
💥इस पर मुझे कहना है कि संत श्री आशाराम जी बापू आम आदमी के संत हैं।
💥तथा वे  #सत्संग अथवा #शिविर के लिए कोई फीस भी चार्ज नहीं करते हैं।
और
💥यदि कभी आपको पूज्य #बापू जी का सत्संग अथवा उनकी कोई #सी.डी.सुनने का सौभाग्य प्राप्त हो जाये तो आपको जानकारी मिलेगी कि बापू जी ना तो दीक्षा देते हुए कोई नकद दक्षिणा अथवा कोई वस्तु स्वीकार करते हैं और ना ही गुरु #पूर्णिमा अथवा अन्य किसी पर्व पर भी।
💥आश्चर्य का विषय है कि आपका खोजी व सीनियर पत्रकार तो आश्रम द्वारा आयोजित भंडारों एवं अन्य सद्प्रवृतियों द्वारा भी धन एकत्रित करने का आरोप लगा रहा है।
💥मैं आपको बता दूँ कि आश्रम द्वारा संचालित भण्डारे केवल गरीबों, #बनवासियों तथा #आदिवासियों में विराजमान ‘दरिद्र #नारायण’ की सेवा के लिए आयोजित किये जाते हैं ना की चंदा एकत्र करने के लिये।
💥कितने आश्चर्य की बात है कि आपका बिजनेस ग्रुप-आजतक समाचार #चैनल, #म्यूजिक टूडे चैनल, बिजनेस टूडे चैनल अथवा अन्य कई #विदेशी ब्रांड्स के साथ बिजनेस कर आपके लिए धनवर्षा कर रहा है।
💥किन्तु फिर भी जैसी कि एक कहावत है कि पैसे से कभी मनुष्यता नहीं खरीदी जा सकती, आपका केस भी मुझे वही लगता है।
💥आपने तो मनुष्यता के अत्यंत नीचे स्तर पर उतरकर वेटिकन व ईसाई मिशनरियों द्वारा प्रयोजित यह लेख केवल उनकी प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए छापा गया लगता है।
और ऐसा पहली बार भी नहीं है, जब आप देश के एक महान हिंदू संत श्री आशाराम जी बापू के विरुद्ध पहली बार ऐसा काम कर रहे हैं।
💥सितम्बर #2010 में भी आपके समाचार चैनल ‘आजतक’ ने एक स्टिंग ऑपरेशन में दिखाया था कि संत श्री आशाराम जी बापू अपने आश्रम में एक अपराधी महिला को रखने के लिए राजी हो गये हैं।
💥मैंने जब इस विषय में कुछ खोज की तो पता चला कि आपके चैनल के ही कुछ व्यक्ति एक महिला को लेकर बापू जी के पास हरिद्वार पहुँचे थे तथा कहा था कि इस महिला की जान को खतरा है, अत: कृपया एक दो दिन इसको अपने आश्रम में शरण दे दें।
💥यह पूरा #षड्यंत्र आपके चैनल की टीम ने बनाया था तथा जो स्टिंग वो दिखा रहे थे, वह भी काफी जोड़-तोड़ करके बनाया गया स्टिंग था।
💥मैंने जब आपके चैनल के अधिकारियों को बिना एडिट किया हुआ पूरा स्टिंग दिखाने के लिए फोन किया तो उन्होंने अत्यंत निर्लज्जता से उत्तर दिया था कि आप अदालत में जा सकती हैं।
💥वेटिकन की ईसाई #मिशनरियों का उद्देश्य #भारत का #‘ईसाईकरण’ है इसीलिए भारतीय #संस्कृति व सनातन धर्म का झंडा बुलंद करने वाले संत श्री आशाराम जी बापू तो उनके जन्मजात दुश्मन बने हुए हैं।
💥अत: उन्हें हटाने के लिए ही वो भारत के ‘देशद्रोही व निर्लज्ज’ #मीडिया को अपनी अकूत दौलत के बल पर आज #‘जयचंद’ बना रहे हैं।
💥#‘इंडिया टूडे’ ग्रुप एक अत्यंत धनी व पैसे वाला बिजनेस ग्रुप है किन्तु जब भी भारतीय संस्कृति व हिंदू धर्म का इतिहास लिखा जाएगा तो आपका नाम भी आज के ऐसे ‘जयचंदों’ की सूची में शामिल होगा जिन्होंने पैसे की लिप्सा के लिए अपनी आत्मा व धर्म दोनों को ही धर्म के सौदागरों के हाथ नीलाम कर दिया था।
💥धन्यवाद सहित
💥भवदीय, सुनंदा तंवर 16, पालम कोर्ट, लन्दन, यू.के.
🚩Official Jago hindustani
Visit  👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼
💥Youtube – https://goo.gl/J1kJCp
💥WordPress – https://goo.gl/NAZMBS
💥Blogspot –  http://goo.gl/1L9tH1
🚩🇮🇳🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🇮🇳🚩