पूर्व सचिव समेत 3 अफसरों को कोयला घोटाले में 2 साल की जेल, मिली तुरंत जमानत

पूर्व सचिव समेत 3 अफसरों को कोयला घोटाले में 2 साल की जेल, मिली तुरंत जमानत
🚩22 अप्रैल 2017
🚩आज
भी देश की जेलों में करीब 2.78 लाख विचाराधीन कैदी हैं। इनमें से कई ऐसे
हैं जो उस अपराध के लिए मुकर्रर सजा से ज्यादा समय जेलों में बिता चुके हैं
🚩जो
धनी लोग हैं और सत्ता के साथ अपना ताल मेल रखते हैं वो तो पैसे के बल पर
तुरन्त जमानत पा लेते हैं लेकिन जो गरीब हैं, झूठे #केस में फंसे हैं उनके
लिये न्याय पाना मुश्किल ही नही असंभव जैसा हो गया है ।
🚩ऐसे ही करीब 11 लाख करोड़ रुपये कोयला खदान आवंटन घोटाले का मामला सामने आया है ।
🚩दिल्ली
की पटियाला हाउस #कोर्ट स्थित स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने सोमवार को कोयला
घोटाले में दोषी पूर्व कोयला सचिव एच सी गुप्ता, #कोयला #मंत्रालय के
तत्कालीन संयुक्त सचिव के एस क्रोफा और तत्कालीन निदेशक के सी समारिया को
दो साल जेल की सजा सुनायी। हालांकि तीनों दोषियों को एक-एक लाख रुपये के
निजी मुचलके पर तत्काल #जमानत भी मिल गयी।
🚩
#यूपीए #सरकार के समय #मध्यप्रदेश के थेसगोड़ा-बी रूद्रपुरी कोयला ब्लॉक
के आवंटन घोटाले में गुप्ता, क्रोफा, समारिया और कंपनी केएसएसपीएल और उसके
प्रबंध निदेशक पवन कुमार आहलूवालिया को #दोषी करार दिया गया था। दो साल जेल
की सजा पाए आहलूवालिया को भी कोर्ट से जमानत मिल गयी।
इस कोयला घोटाले से जुड़े ये चार किरदार कौन हैं, इस पर एक रिपोर्ट-
🚩1.एच
सी गुप्ता- यह 31 दिसंबर 2005 से नवंबर 2GYह008 तक कोयला सचिव थे।
इन्होंने तत्कालीन #पीएम #मनमोहन सिंह के समक्ष कमल स्पॉंज स्टील एंड पावर
लिमिटेड (केएसएसपीएल) कंपनी को मध्य प्रदेश में कोयला ब्लॉक आवंटित करने की
सिफारिश की थी, जो उस समय आवंटन के नियमों को पूरा नहीं करती थी। सीबीआई
ने विशेष अदालत से गुप्ता को धोखाधड़ी और आपराधिक #षडयंत्र के जुर्म में
अधिकतम सात साल जेल की मांग की थी। गुप्ता के खिलाफ कोयला घोटाले से जुडे
10 और मामले लंबित हैं, जिन पर अलग से कार्रवाई चल रही है।
🚩2.
के एस क्रोफा- यह कोयला मंत्रालय के तत्कालीन संयुक्त सचिव थे। इन्हें भी
विशेष कोर्ट ने कोयला ब्लॉक आवंटन में #अनियमितता का दोषी माना है। क्रोफा
असम मेघालय कैडर के 1982 बैच के आईएएस अ​धिकारी हैं। फिलहाल यह मेघालय के
मुख्य सचिव हैं।  इन पर कोयला घोटाले से जुड़े 8 मामलों में शामिल होने का
आरोप है।
🚩3.
के सी समारिया- यह कोयला मंत्रालय के तत्कालीन निदेशक थे। कोयला ब्लॉक
आवंटन में य​ह भी दोषी माने गए हैं। इन पर कोयला घोटाले से जुड़े 6 मामलों
में संलिप्त होने का आरोप है।
🚩4.
पवन कुमार आहलूवालिया- यह कोयला घोटाले में शामिल कंपनी केएसएसपीएल के
प्रबंध निदेशक हैं। इनकी कंपनी के सतना और जयपुर में कार्यालय हैं।
🚩केवल
कोयला घोटाले के अपराधियों को ही जमानत मिल गई ऐसा नही है घोटाले –
#बोफोर्स_घोटाला – 64 करोड़ रुपये, #यूरिया_घोटाला – 133 करोड़ रुपये,
#चारा_घोटाला – 950 करोड़ रुपये, #शेयर_बाजार_घोटाला – 4000 करोड़ रुपये,
#सत्यम_घोटाला – 7000 करोड़ रुपये, #स्टैंप_पेपर_घोटाला – 43 हजार करोड़
रुपये, #कॉमनवेल्थ_गेम्स_घोटाला – 70 हजार करोड़ रुपये,
#2जी_स्पेक्ट्रम_घोटाला – 1 लाख 67 हजार करोड़ रुपये, अनाज_घोटाला – 2 लाख
करोड़ रुपए (#अनुमानित), विजय माल्या 9000 करोड़ घोटाला आदि के सभी आरोपी
बाहर स्वतंत्र घूम रहे हैं ।
🚩लेकिन
दूसरी ओर  हिन्दू संस्कृति की रक्षा करने वाले, शंकराचार्य अमृतानन्द,
कर्नल पुरोहित, संत आसारामजी बापू, श्री नारायण साई, श्री धनंजय देसाई आज
भी बिना सबूत सालों से जेल में बंद हैं ।
🚩इसे तो यही पता चल रहा है कि पूर्व जजों ने जो सवाल उठाये थे कि न्यायप्रणाली में भ्रष्टाचार व्याप्त है वे सही हैं ।
🚩सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस खरे ने कहा है कि आपके पास पैसे नही हैं तो कोर्ट के तरफ भूलकर भी नही देखना।
🚩सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायधीश काटजू ने कहा था कि भारतीय #न्याय_प्रणाली में 50% जज भ्रष्ट हैं ।
🚩सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश संतोष_हेगड़े भी सवाल उठा चुके हैं कि ‘धनी और प्रभावशाली’ तुरंत जमानत हासिल कर सकते हैं ।
🚩कर्नाटक
हाईकोर्ट के पूर्व वरिष्ठ न्यायाधीश जस्टिस के एल मंजूनाथ ने कहा कि यहाँ
सत्यनिष्ठा और ईमानदारी के लिए कोई स्थान नहीं है और इस देश में न्याय के
लिए कोई जगह नहीं ।
🚩भारत
की जेलों में कई सालों से बिना सबूत बहुत सारे निर्दोष लोग बन्द हैं, उनकी
कोर्ट में कोई सुनवाई नही हो रही है और न ही उनको जमानत मिल पा रही है,
लेकिन किसी भी नेता, अभिनेता, पत्रकारों और अमीरों को सजा होने का बाद
तुरंत जमानत हासिल हो जाती है ।
🚩इसलिये आज न्याय प्रणाली से जनता का भरोसा उठ गया है ।
🚩आरोप
साबित होने पर भी कई बड़ी हस्तियाँ बाहर घूम रही हैं और अभी तक जिन पर आरोप
साबित नही हुआ है वो जेल में हैं । पूर्ण रूप से अब ये समझा जाता है कि
मीडिया और #पॉलिटिक्स की आपस में मिलीभगत के कारण न्यायप्रणाली में भी
भ्रष्टाचार व्याप्त हो चुका है ।
🚩जनता के मन में कई सवाल उठ रहे हैं कि निर्दोषों के लिए न्याय प्रणाली #भ्रष्ट मुक्त होकर शीघ्र निर्णय कब लेगी ???
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib
🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s