युगपुरुष छत्रपती शिवाजी महाराजांची जयंती

��आजीवन अपनी #मातृभूमि भारत की $स्वतंत्रता के लिए लड़ने वाले #नरकेसरी #वीर #छत्रपति #शिवाजी #जयंती
(दिनांक अनुसार : 19 फरवरी
तिथि अनुसार : 8 मार्च)
��शिवाजी #महाराज जो न स्वयं कभी #प्रमादी हुए और न ही उन्होंने देश के दुश्मनों को चैन से सोने दिया । वे कुशल #राजनीतिज्ञ के साथ-साथ #बुद्धिचातुर्य में भी अद्भुत थे। वीरता के साथ #विद्वता के भी #उत्तम धनी थे।
��शिवाजी के जीवन में ऐसे कई प्रसंग आये जिनमें उनके इन #गुणों का संगम देखने को मिलता है। इसमें से एक मुख्य  प्रसंग है -आदिलशाह के सेनापति अफज़लखान के विनाश का ।
��शिवाजी के साथ #युद्ध करके उन्हें जीवित ही पकड़ लेने के उद्देश्य से इस खान सरदार ने बहुत बड़ी सेना को साथ में लिया था । तीन साल चले इतनी युद्ध-सामग्री लेकर वह #बीजापुर से निकला था । इतनी विशाल सेना के सामने टक्कर लेने हेतु शिवाजी के पास इतना बडा सैन्यबल नही था ।
��शिवाजी ने खान के पास #संदेश भिजवाया : ‘मुझे आपके साथ नहीं लड़ना है । मेरे व्यवहार से #आदिलशाह को बुरा लगा हो तो आप उनसे मुझे माफी दिलवा दीजिये । मैं आपका आभार मानूँगा और मेरे अधिकार में आनेवाला मुल्क भी मैं आदिलशाह को खुशी से सौंप दूँगा ।
��#अफज़लखान समझ गया कि शिवाजी मेरी सेना देखकर ही डर गया है । उसने अपने #वकील कृष्ण भास्कर को शिवाजी के साथ बातचीत करने के लिए भेजा । शिवाजी ने #कृष्ण भास्कर का सत्कार किया और उसके द्वारा कहलवा भेजा : ‘मुझे आपसे मिलने आना तो चाहिए लेकिन मुझे आपसे डर लगता है । इसलिए मैं नहीं आ सकता हूँ ।’
��इस संदेश को सुनकर कृष्ण भास्कर की सलाह से ही खान ने स्वयं शिवाजी से मिलने का विचार किया और इसके लिए शिवाजी के पास संदेश भी भिजवा दिया ।
शिवाजी ने इस मुलाकात के लिए खान का आभार माना और उसके सत्कार के लिए बड़ी तैयारी की । जावली किले के आस-पास की झाड़ियाँ कटवाकर रास्ता बनाया तथा जगह-जगह पर मंडप बाँधे । अफज़लखान जब अपने सरदारों के साथ आया तब शिवाजी ने पुनः कहला भेजा : ‘मुझे अब भी भय लगता है । अपने साथ दो सेवक ही रखियेगा । नहीं तो आपसे मिलने की मेरी हिम्मत नहीं होगी ।
��#खान ने संदेश स्वीकार कर लिया और अपने साथ के सरदारों को दूर रखकर केवल दो तलवारधारी सेवकों के साथ मुलाकात के लिए बनाये गये तंबू में गया । शिवाजी को तो पहले से ही खान के #कपट की #गंध आ गयी थी, अतः अपनी स्वरक्षा के लिए उन्होंने अपने अँगरखे की दायीं तरफ #खंजर छुपाकर रख लिया था और बायें हाथ में #बाघनखा पहनकर मिलने के लिए तैयार खडे रहे ।
��जैसे ही खान दोनों हाथ लंबे करके शिवाजी को आलिंगन करने गया, त्यों ही उसने शिवाजी के मस्तक को बगल में दबा लिया । शिवाजी सावधान हो गये । उन्होंने तुरंत खान के पाश्र्व में खंजर #भोंक दिया और #बाघनखे से पेट चीर डाला ।
��खान के दगा दगा… की चीख सुनकर उसके #सरदार तंबू में घुस आये । शिवाजी एवं उनके सेवकों ने उन्हें सँभाल लिया । फिर तो दोनों ओर से घमासान #युद्ध छिड गया ।
��जब खान के शव को पालकी में लेकर उसके सैनिक जा रहे थे, तब उनके साथ लडकर शिवाजी के सैनिकों ने #मुर्दे का सिर काट लिया और धड़ को जाने दिया ।
��खान का पुत्र फाजल खान भी घायल हो गया । खान की सेना की भी बड़ी बुरी हालत हो गयी एवं शिवाजी की सेना जीत गयी । इस युद्ध में शिवाजी को करीब 75 #हाथी, 7000#घोडे, 1200 के करीब #ऊँट, बडा #तोपखाना, 2-3 हजार #बैल, 10-12 #लाख #सोने की मुहरें, 2000 गाड़ी भरकर कपडे एवं तंबू वगैरह का सामान मिल गया था ।
��यह शिवाजी की वीरता एवं #बुद्धिचातुर्य का ही परिणाम था । जो काम बल से असंभव-सा था उसे उन्होंने युक्ति से कर लिया ।
��कैसे #वीर #योद्धा हो गए अपने देश में, जिन्होंने अपने बुद्धि चातुर्य से वो कर दिखाया जिसकी कल्पना सर्व साधारण की बुद्धि से परे है।
��आज देश का #अन्न खाकर जो देश से गद्दारी कर रहे है उन गद्दारों के खिलाफ हर हिन्दू को #शिवाजी से प्रेरणा लेकर #लोहा लेना चाहिए।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s