Reality Of Silver Foil For Sweets

🚩🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🚩
🔥आखिर क्या है सच्चाई➡मिठाईयों पर लगे चाँदी के वर्क की….???
💥जिसको चाँदी का वर्कgo mata-1
कहकर मिठाइयों पर लगाया जाता है, वो असल में क्या चीज है और कैसे बनता है….?

💥आप को जब ये पता चलेगा तो आप उस वर्क से बनी मिठाई खाना
तो दूर,उसे देखते ही घिन्न करने लगेंगे।

🔥कैसे बनता है चांदी का वर्क …?

💥असल में यह वर्क चाँदी का होता ही नहीं है। यह एल्युमिनियम जैसी एक चमकीली धातु से बनाया जाता है।
जब गौमाता को मारा जाता है
तो गौ माता के पेट से जो आंत
निकलती है ये सिर्फ उससे
ही बनता है।

💥ध्यान रहे – यह अन्य किसी भी पशु की आंत से या किसी अन्य वस्तु से कभी
नहीं बन सकता।

🔥गाय की आंत को काट कर उसके अंदर उस चमकीली चाँदी जैसी धातु का वर्क का बड़ा टुकड़ा डाल दिया जाता है और
फिर उस चमकीली धातु को गाय की आंत में डाल कर लकड़ी के हतोड़े से खूब देर पीटा जाता है
जिससे आंत फ़ैल जाती है,
क्योंकि गाय की आंत कभी फटती नही इसलिए वर्क आसानी से पिटाई के दौरान फ़ैल जाता है और पूरी आंत वर्क में बदल जाती है।

💥हम में से कइयों को पता होते हुए
भी वर्क वाली मिठाइयों का सेवन कर गौहत्या बढ़ाने का पाप कर रहे हैं….

🔥चाँदी वर्क बनाने के लिए भारत मे हर साल एक लाख सोलह हजार गायों का क़त्ल किया जाता है।

💥चाँदी का वर्क गाय की आंतड़ियों के बीच रखकर कूटकर बनाया जाता है।

🔥चांदी के वर्क लगी मिठाई खाने से गोमांस खाने का पाप तो लगता ही है
और साथ ही साथ हम भागीदार होंगे हर साल होने वाली 1,16,000 गायों की हत्या के भी।

💥आगे आप लोग खुद समझदार है।
💥दीपावली पर सावधान रहे ऐसी वर्क  वाली मिठाईओ से…
🚩जय गौमाता🚩

💥देखिये वीडियो👇
💻– 

🚩Official Jago hindustani Visit
👇👇👇
💥Youtube – https://goo.gl/J1kJCp

💥WordPress – https://goo.gl/NAZMBS

💥Blogspot –  http://goo.gl/1L9tH1

💥Twitter – https://goo.gl/iGvUR0

💥FB page – https://goo.gl/02OW8R

🚩🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🚩

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s