Hidden Facts You Need To Know About EarthQuake

🚩🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🚩

Jagohindustani

🌏भूकंप कहे गाय की गाथा।
कांपे धरा त्रास अति जाता।
💥अथार्त् जब गौमाता को कष्ट होता है, तभी पृथ्वी कांपती है ।

🚩अथर्ववेद के अनुसार- गाय समृद्धि का मूल स्रोत व प्रचुरता की द्योतक है एवं सृष्टि के पोषण का स्रोत व जननी है। गाय माता में 33 करोड़ देवताओं का वास हैं।

⛳गाय को सताना घोर पाप है। उसकी हत्या से तो नर्क के द्वार खुल जाते है तथा करोड़ो जन्मों तक दुख भोगना पड़ता है।

⛳“गोमय वसते लक्ष्मी” यह हमारी प्राचीन भारतीय वैज्ञानिक संस्कृति का मूल-मंत्र रहा है।

🚩आज के वैज्ञानिक भी कहते हैं कि गाय ही एकमात्र ऐसा पवित्र प्राणी है जो ऑक्सीजन ग्रहण करता है और ऑक्सीजन ही छोड़ता है।

⛳यह बहुत आश्चर्य की बात है क़ि 1 चम्मच गोघृत जला कर हम 1 टन  प्राणवायु प्राप्त कर सकते है। – रुसी वैज्ञानिक शिरोविच

🚩एलोपैथिक दवाओं,रसायनिक खादों,प्रदूषण आदि के कारण शरीर में एकत्रित विष गाय के दूध से ही नष्ट होता है ।

⛳गौ माता का दूध,दही,गौ-मूत्र,गोबर आदि जीवन के लिए उपयोगी होने के साथ-साथ वरदान स्वरुप है।

🚩अमेरिका केंसर की दवा बनाने के लिए भारत से गौमूत्र आयात करता है और हम लोग पवित्र गौ-माता को कत्लखाने भेज देते है। ये कहाँ तक उचित है ???

⛳प्रत्येक हिन्दू का परम् कर्तव्य है क़ि वो गौ-गीता और संतो का सम्मान करें। ऐसा करेंगे तभी हम देश को सही दिशा की ओर ले जा पाएंगे तथा ईसाई मिशनरियों द्वारा देश को गुलाम होने से बचा पायेगे।

🚩नन्दगोपाल की इस धरा पर होनी ही चाहिए #गौरक्षा_हर_कीमत_पर ।
🇮🇳जागो भारतवासियों जागो…

☀https://twitter.com/trendinaliaIN/status/660662592629686273

🚩Official Jago hindustani Visit
👇👇👇
💥Youtube – https://goo.gl/J1kJCp

💥WordPress – https://goo.gl/NAZMBS

💥Blogspot –  http://goo.gl/1L9tH1

💥Twitter – https://goo.gl/iGvUR0

💥FB page – https://goo.gl/02OW8R

🚩🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🚩

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s