इतना भयंकर षड्यंत्र आखिर क्यों ?

akhir Kyo ?
इतना भयंकर षड्यंत्र आखिर क्यों ?
श्री पी. दैवमुत्थु (सम्पादक, ‘हिन्दू वोयस’ मासिक पत्रिका)

” बापूजी की प्रेरणा से चल रहे ‘युवाधन सुरक्षा अभियान’ तथा गुरुकुलों के विद्यार्थियों द्वारा ओजस्वी- तेजस्वी भारत का निर्माण हो रहा है |”

1) पूज्य बापूजी सबको मन्त्र-चिकित्सा, ध्यान, प्राणायाम, सादा रहन-सहन, स्वदेशी वस्तुएं, स्वदेशी आयुर्वेद चिकित्सा को अपनाने की सीख देते हैं, स्वास्थ्य के लिए हानि-कारक ‘हैप्पी बर्थ-डे’ की जगह भारतीय पद्धति से जन्म-दिवस मनाने की प्रेरणा देते हैं | विद्यार्थियों को संयम के मार्ग पर चलाकर चरित्रभ्रष्ट होने से और यौन-रोगों से बचाते हैं | इससे विदेशी कंपनियों का प्रतिवर्ष कई हज़ार करोड़ का नुक्सान हो रहा है |

2) बापूजी के सत्संग से लोगों में भारतीय संस्कृति के प्रति आस्था बढ़ने से देश-विरोधी तत्वों को तकलीफ होती है |

3) बापूजी धर्मांतरण वालों के लिए भी भारी रुकावट हैं इसलिए वे लोग सत्ता की सहायता से बापूजी और हिन्दू संतो को हर प्रकार के झूठे इल्जामों में फंसा रहे हैं | बापूजी आदिवासियों व गरीबों में अन्न, वस्त्र, बर्तन, गर्म भोजन के डिब्बे, कम्बल, दवाएं, तेल आदि जीवनोपयोगी सामग्रियां बांटते रहे हैं | इससे धर्मांतरण करने वालों का बोरिया- बिस्तर बंध जाता है |

4) कई बिकाऊ मीडियावाले पैसों के लिए तो कई टीआरपी बढाने के लिए कुछ-का-कुछ दिखाते रहते हैं |

5) पूज्य बापूजी के सत्संग से लोग महँगी दवाओं और बिनजरूरी ऑपरेशनों से बच रहे हैं, जिससे कई लूटने वालों की लूट में भारी कमी आती है |

6) बापूजी की प्रेरणा से चल रहे ‘युवाधन सुरक्षा अभियान’ तथा गुरुकुलों व बाल संस्कार केन्द्रों के असाधारण प्रतिभासंपन्न विद्यार्थियों द्वारा ओजस्वी-तेजस्वी भारत का निर्माण हो रहा है |

7) बापूजी के सत्संग एवं उनकी प्रेरणा से चल रहे ‘व्यसनमुक्ति अभियान’ से करोड़ों लोगों की शराब, सिगरेट, गुटका आदि व्यसन छूटते हैं | साथ ही लोग अश्लील सामग्रियों से भी बचते हैं | इससे विदेशी कम्पनियों का खरबों रुपये का निकसान होता है |

इनके अलावा और भी कई कारण हैं जिनसे कभी इसाई मिशनरी, कभी विदेशी कम्पनियाँ तो कभी कोई और, मीडिया को मोहरा बनाकर हिन्दू संस्कृति व् बापूजी जैसे संतों के विरुद्ध षड्यंत्र करते रहते हैं |

स्रोत- लोक कल्याण सेतु, मई 2015

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s